कीट नाशक दवाओं पर सीमा शुल्क बढ़ाने से किसानों का होगा भारी नुकसान

0

New Delhi:  केंद्र सरकार किसानो को एक और बड़ा झटका देने की तयारी कर रही है, सरकार खेती में प्रयोग होने वाले कीट नाशकों के ऊपर टैक्स की वृद्धि करने जा रही है. कृषि क्षेत्र से जुड़ी 15 शोध कंपनियों के संगठन क्रॉप लाइफ ने कीटनाशकों के आयात शुल्क को दोगुना करने की केंद्र सरकार के प्रस्ताव पर चिंता व्यक्त करते हुए कहा है कि इससे किसानों का अहित होगा और सतत कृषि में रुकावट आयेगी।

जाणुन घ्या रासायनिक शेती व त्याचे दुष्परीणाम ! - Yogiraj Film Creations

क्राॅप लाइफ के मुख्य कार्यकारी अधिकारी अस्तिव सेन ने शुक्रवार को कहा कि कीटनाशकों के आयात शुल्क में दोगुनी बढोतरी करने का प्रस्ताव भ्रामक जानकारी पर आधारित है। ऐसा कहा जा रहा है पिछले दो माह के दौरान भारी मात्रा में कीटनाशक मंगाये गये हैं लेकिन आयात का आंकड़ा बिल्कुल अलग है।

उन्होंने कहा कि कुल आयातित कीटनाशक 1,800 करोड़ रुपये है, जो भारत में आयातित कुल कृषि उपयोगी रसायनों का करीब 20 प्रतिशत ही है। कीटनाशक पर सीमाशुल्क बढाने से कारोबार में सरलता (इज ऑफ डूइंग बिजनेस) में परेशानी आयेगी और भारतीय नीति की अनिश्चितता उजागर होगी, जिससे इस क्षेत्र में निवेश करने वालों का गलत संदेश जायेगा.सेन ने कहा कि हमारा संगठन ‘मेक इन इंडिया’ का पूरा समर्थन करता है लेकिन यह देश के किसानों को नजरअंदाज करने नहीं होना चाहिए।

इसे भी पढ़े : किसान विधेयक पर संसद से सड़क तक हंगामा

शेयर करें