IND vs ENG: खिलाड़ियों ने पहनी लाल टोपी, जानिए क्या है मुख्य वजह?

लंदन में लॉर्ड्स टेस्ट का दूसरे दिन 'रेड फॉर रूथ' दिवस (Red For Ruth Day) के रूप में मनाया गया है, जिसके लिए भारत और इंग्लैंड के सभी खिलाड़ी मैदान पर लाल रंग की टोपी पहनकर उतरे

लंदन: भारत (India) और इंग्लैंड (England) के बीच 5 मैचों की टेस्ट सीरीज का दूसरा मुकाबला  लंदन (London) के लार्ड्स के मैदान पर खेला जा रहा है। इस मैच के दौरान दोनों ही टीम के खिलाड़ी एक खास उद्देश्य के लिए अपना योगदान देते नजर आए हैं। क्रिकेट मैच के दूसरे दिन जहां इंग्लैंड (England) के सभी खिलाड़ी मैदान पर लाल रंग के रिबन के लगाकर खेलने उतरे तो भारतीय टीम के खिलाड़ियों ने लाल रंग की कैप पहनी थी।

Red For Ruth Day

लंदन में लॉर्ड्स टेस्ट का दूसरे दिन ‘रेड फॉर रूथ’ दिवस (Red For Ruth Day) के रूप में मनाया गया है। पूर्व इंग्लिश कप्तान एंड्रयू स्ट्रॉस की पत्नी रूथ स्ट्रॉस के नाम पर बनाए गए फाउंडेशन के नाम ये दिन समर्पित होता है। इस दिवस के जरिए फाउंडेशन को ना सिर्फ प्रचार करने के साथ जागरुकता फैलाने में मदद मिलती है बल्कि संगठन को आर्थिक मदद भी मिलती है।

इंग्लैंड के कप्तान जो रूट का कहना है कि रूथ स्ट्रॉस फाउंडेशन ने क्रिकेट को Perspective में रखा और उनके दिमाग में था क्योंकि उन्होंने 2021 में भारत के खिलाफ नाबाद 180 के स्कोर के साथ अपना शानदार टेस्ट फॉर्म जारी रखा था। लॉर्ड्स टेस्ट ने Red For Ruth को बदल दिया है ताकि फेफड़ों के कैंसर के गैर-धूम्रपान रूपों और माता-पिता की लाइलाज बीमारी से निपटने वाले परिवारों का समर्थन करने के लिए अनुसंधान के लिए जागरूकता और धन जुटाया जा सके।

एंड्रयू स्ट्रॉस की पत्नी रूथ का 2018 में धूम्रपान न करने वाले फेफड़ों के कैंसर से 46 वर्ष की आयु में निधन हो गया, उनके नाम पर फाउंडेशन की स्थापना की गई।

अंग्रेजी पेशेवर स्क्वैश खिलाड़ी

रूथ स्ट्रॉस एक पूर्व अंग्रेजी पेशेवर स्क्वैश खिलाड़ी हैं। स्ट्रॉस का जन्म 14 मार्च 1963 को हुआ था और वह बार्लिंग, एसेक्स में रहते थे। उसने अपने स्थानीय कोर्टलैंड्स पार्क क्लब में 12 साल की उम्र में स्क्वैश खेलना शुरू किया और 1978 में ब्रिटिश अंडर -19 का खिताब जीता। आगे की सफलता तब मिली जब उसने दो बार ब्रिटिश अंडर -23 का खिताब जीता और 1983 विश्व टीम स्क्वैश चैंपियनशिप में इंग्लैंड का प्रतिनिधित्व किया।

2018 की शुरुआत में स्ट्रॉस को धूम्रपान न करने वाले फेफड़ों के कैंसर का पता चला था। दुर्भाग्य से, 29 दिसंबर 2018 को 46 वर्ष की आयु में उनका निधन हो गया।

यह भी पढ़ेRahul Gandhi ने किया Drinking Water Projects का उद्घाटन, 42 परिवारों को मिलेगा पीने का पानी

(Puridunia हिन्दीअंग्रेज़ी के एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

Related Articles