अंडर-19 विश्व कप: खिताबी भिड़ंत के लिए भारत और ऑस्ट्रेलिया तैयार, पृथ्वी-शुभमन पर रहेंगी निगाहें

0

टौरांग| न्यूजीलैंड का बे ओवल मैदान शनिवार को एक खिताबी भिड़ंत का गवाह बनने वाला है। दरअसल, शनिवार को भारत और आस्ट्रेलिया के बीच आईसीसी अंडर-19 विश्व कप का फाइनल मुकाबला खेला जाएगा। दोनों ही टीम इस मुकाबले को जीतकर चौथी बार यह खिलाफ अपने नाम करेगा। दोनों टीमें अभी तक इस विश्व कप को तीन-तीन बार घर ले जा चुकी हैं। यह फाइनल एक तरह से 2012 के अंडर-19 विश्व कप का दोहराव होगा।

भारत ने सेमीफाइनल में चिर प्रतिद्वंद्वी पाकिस्तान को 203 रनों के भारी अंतर से मात देते हुए फाइनल में जगह बनाई है। वहीं आस्ट्रेलिया ने सेमीफाइनल में सभी को चौंकाने वाली अफगानिस्तान को छह विकेट के शिकस्त दे खिताबी मुकाबले में कदम रखा।

दोनों टीमें टूर्नामेंट की शुरुआत से ही शानदार प्रदर्शन कर रही हैं। भारत ने ग्रुप दौर में आस्ट्रेलिया को 100 रनों से हराया भी है। ऐसे में उसके पास मानसिक बढ़त होगी। युवा प्रतिभाशाली बल्लेबाज पृथ्वी शॉ की कप्तानी वाली भारत इस टूर्नामेंट में अभी तक एक भी मैच नहीं हारी है।

आस्ट्रेलिया के खिलाफ ग्रुप दौर के मैच में पृथ्वी ने 94, मनजोत कालरा ने 86 रनों की पारियां खेली थीं और भारत ने 50 ओवरों में सात विकेट के नुकसान पर 328 रन बनाए थे। जबाव में आस्ट्रेलिया सिर्फ 228 रन ही बना सकी थी। हालांकि इसके बाद आस्ट्रेलिया ने पापुआ न्यू गिनी, जिम्बाब्वे, बांग्लादेश और पाकिस्तान को मात दी थी।

फाइनल में सभी की निगाहें भारत की मजबूत बल्लेबाजी पर होंगी। कप्तान पृथ्वी और शुभमन गिल के रूप में भारत के पास दो शानदार बल्लेबाज हैं जिन्होंने अभी तक अपने बल्ले से सभी को प्रभावित किया है। गिल ने अभी तक इस टूर्नामेंट में 170 की औसत से रन बनाए हैं। गिल ने पाकिस्तान के खिलाफ 94 गेंदों में 102 रनों की पारी खेली थी। इसके अलावा उन्होंने 63, 90 और 86 रनों की पारियां खेली हैं।

वहीं गेंदबाजी में भारत का दारोमदार शिवम मावी, कमलेश नागरकोटी और ईशान पोरेल पर होगा। अभिषेक शर्मा भारत के एक और मुख्य खिलाड़ी हैं। वह अनूकुल रॉय के साथ स्पिन की जिम्मदेरी संभालेंगे। अभिषेक अंत में आकर कुछ अच्छे शॉट भी लगा सकते हैं।

वहीं दूसरी तरफ आस्ट्रेलिया को लेग स्पिनर ल्योड पोप से काफी उम्मीदें हैं जिन्होंने इंग्लैंड के खिलाफ 35 रन देकर आठ विकेट लिए थे। आस्ट्रेलिया की बल्लेबाज उनके कप्तान जेसन सांघा, जैक एडवडर्स और नाथन मैक्स्वीनी के ऊपर निर्भर है। भारत ने इससे पहले 2000, 2008 और 2012 में विश्व कप पर कब्जा जमाया है।

भारत : पृथ्वी शॉ (कप्तान), शुभमन गिल, आर्यन जुयाल, अभिषेक शर्मा, अर्शदीप सिंह, हार्विक देसाई, मनजोत कालरा, कमलेश नागरकोटी, पंकज यादव, रियन पराग, ईशान पोरेल, हिमांशु राणा, अनूकुल रॉय, शिवम मावी, शिवा सिंह।

आस्ट्रेलिया : जेसन सांघा (कप्तान), विल सदरलैंड, जेवियर बार्टलेट, मैक्स ब्रयांट, जैक एडवडर्स, जैक इवांस, जैरोड फ्रीमैन, रयान हेडली, बैक्टर होल्ट, नाथन मैक्स्वीनी, जोनाथन मेरलो, ल्योड पोप, जेसन राल्सटन, परम उप्पल, आस्टिन वॉ।

loading...
शेयर करें