भारत को मिला फ़्रांस का साथ चीन को दिया कुछ इस तरह जवाब, जैश सरगना मसूद अजहर……….

0

नई दिल्ली: जैश सरगना मसूद अजहर को ग्लोबल टेररिस्ट घोषित किए जाने के मुद्दे पर चीन का पुराना रुख ही इस दफा भी सामने आया। चीन ने चौथी बार टेक्निकल होल्ड को आधार बना कर यूएनएससी की 1267 लिस्ट पर वीटो लगा दिया। लेकिन फ्रांस ने मसूद अजहर पर कड़ी कार्रवाई की है। 27 फरवरी को फ्रांस की सरकार ने अजहर को ग्लोबल टेररिस्ट घोषित करने के लिए प्रस्ताव लाया था। यूएनएससी में चर्चा के बाद वीटो पावर प्राप्त देशों से आपत्ति दर्ज कराने के लिए 13 मार्च का समय दिया था। चीन ने 13 मार्च को समय सीमा समाप्त होने से ठीक एक घंटे पहले वीटो लगा दिया था।

फ्रांस ने मसूद अजहर की फ्रांस स्थित सभी संपत्तियों को जब्त करने का फैसला किया है। फ्रांस का कहना है कि इसमें दो मत नहीं कि मसूद अजहर आतंकी है और वो विश्व शांति के लिए खतरा है। बता दें कि चीन ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में अपनी बात रखते हुए कहा कि अभी इस बात के पुख्ता सबूत नहीं है कि वो विश्व शांति के लिए खतरा बना हुआ है।

https://youtu.be/7V2WFso2w40

चीन के इस कदम के  संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के राजनयिकों ने निराशा जताया था।  चीन को चेतावनी देते हुए राजनयिकों ने कहा कि अगर चीन जैश-ए-मोहम्मद के सरगना मसूद अजहर को वैश्विक आतंकवादी घोषित किए जाने के रास्ते में रुकावट बनेगा तो दूसरे कदम उठाए जाएंगे। अगर चीन इस कार्य में बाधा पैदा करना जारी रखता है, तो जिम्मेदार सदस्य देश, सुरक्षा परिषद में अन्य कदम उठाने पर मजबूर हो सकते हैं। ऐसी स्थिति उत्पन्न नहीं होनी चाहिए।

loading...
शेयर करें