कोरोना के खिलाफ जंग में भारत को दो और वैक्सीन मिली, जानें क्या होगा फायदा

कोरोना वायरस के खिलाफ जंग में भारत को अब दो और वैक्सीनें और एक नई विशिष्ट दवा मिल गयी है

कोरोना वायरस के खिलाफ जंग में भारत को अब दो और वैक्सीनें और एक नई विशिष्ट दवा मिल गयी है. भारत के ड्रग्स कंट्रोलर ने कोवावैक्स वैक्सीन, कोर्बेवैक्स वैक्सीन और एंटी-वायरल दवा मोलनुपिरावीर को सीमित आपातकालीन इस्तेमाल की मंजूदी दे दी है. इन दो वैक्सीनों और मोलनुपिरावीर को ऐसे समय पर मंजूरी दी है जब देश में ओमीक्रान के कारण तीसरी लहर आने की आशंका जताई जा रही है.

कोर्बेवैक्स

जिस दूसरी वैक्सीन को मंजूरी दी गयी है उसका नाम कोर्बेवैक्स है. ये देश की पहली आरबीडी प्रोटीन सब-यूनिट वैक्सीन है और इसे हैदराबाद की बायोलॉजिकल-ई ने विकसित किया है. इस वैक्सीन का ट्रायल पांच से 18 साल के बच्चों पर भी हो रहा है.

ख़ास दवा

कोरोना के खिलाफ दवा मोलनुपिरावीर को अमेरिकी कंपनी मर्क ने विकसित किया है और इसे कोरोना वायरस महामारी के खिलाफ लड़ाई में गेम चेंजिंग बताया जा रहा है. कुछ ही दिन पहले अमेरिका में इस दवा के इमरजेंसी इस्तेमाल की इजाजत दी गयी थी. इसके साथ साथ फाइजर की दवा को भी मंजूरी दी गयी है.

Related Articles