तनाव के बीच करतारपुर कॉरिडोर पर भारत-पाक की पहली बैठक शुरू

0

नई दिल्ली: करतारपुर गुरुद्वारा दरबार साहिब कॉरिडोर को लेकर भारत और पाकिस्तान के बीच अहम बैठक शुरू हो गई है. यह बैठक अटारी-वाघा सीमा पर भारत की तरफ हो रही है.मीटिंग के लिए पाकिस्तान का डेलिगेशन उप उच्चायुक्त सैयद हैदर शाह की अगुवाई में अटारी सीमा से भारत में आ गया है. भारतीय की ओर से केंद्रीय गृह मंत्रालय, विदेश मंत्रालय, बीएसएफ, भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग विकास प्राधिकरण और पंजाब सरकार के अफसर शामिल है. काफी कोशिशों के बाद आखिरकार तीन महीने बाद दोनों देशों के बीच इस कॉरीडोर को लेकर बातचीत हो रही है.

बैठक के दौरान दोनों देश एक समझौते का मसौदा तैयार कर सकते हैं. भारत सितंबर तक डेरा बाबा नानक में 190 करोड़ की लागत से यात्री टर्मिनल का निर्माण करेगा, जो 15 हजार तीर्थयात्रियों के लिए होगा.

मीटिंग से ठीक पहले पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने आतंकी हाफिज सईद के करीबी और खालिस्तान समर्थक गोपाल चावला से मुलाकात की. वहीं, बैठक से पहले भारत ने पाकिस्तान को साफ कह दिया है कि इसमें दोनों देशों के रिश्तों को लेकर कोई बातचीत नहीं होगी. बैठक केवल करतारपुर कॉरिडोर को लेकर होगी.

इससे पहले भारत ने पाकिस्तानी पत्रकारों को वीजा देने से इनकार कर दिया. ट्विटर पर पाकिस्तानी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता डॉ. मोहम्मद फैसल ने इस पर कहा, ‘अफसोस है कि भारत ने करतारपुर बैठक के लिए पाकिस्तानी पत्रकारों को वीजा नहीं दिया है.’ भारत सरकार के सूत्रों ने इस पर कहा कि यह कोई सार्वजनिक कार्यक्रम नहीं है जिसे प्रचार की जरूरत हो.

सूत्रों के मुताबिक, भारत इस बात पर भी ऐतराज जता सकता है कि पाकिस्तान ने करतारपुर के गुरुद्वारा दरबार साहिब के देख-रेख का जिम्मा खालिस्तानी समर्थक और 1984 में इंडियन एयरलाइंस की फ्लाइट को हाईजैक करके लाहौर ले जाने वाले रणजीत सिंह उर्फ पिंका को दिया है, जो पाकिस्तान में छिप कर बैठा है.

loading...
शेयर करें