India-Russia Relationship: अफगानिस्तान बैठक में भारत को नहीं मिला न्यौता, जानिए क्यों?

भारत और रूस के रिश्तों पर एक बार फिर सवाल खड़ा होते नजर आ रहा है, रूस ने अफगानिस्तान के एक महत्वपूर्ण बैठक पर भारत को नहीं बुलाया

मॉस्को: भारत और रूस (India-Russia Relationship) के रिश्तों पर एक बार फिर सवाल खड़ा होते नजर आ रहा है, इसकी वजह है रूस, दरसअल रूस ने अफगान पर एक महत्वपूर्ण बैठक पर भारत को नहीं बुलाया। अफगानिस्तान (Afghanistan) में मौजूदा हालात को देखते हुए रूस ने एक बैठक बुलाई जिसमे मुख्य रूप से पाकिस्तान, चीन और अमेरिका के शामिल होने की संभावना है। लेकिन इस बैठक में भारत को शामिल नहीं किया गया, इसके पीछे क्या वजह हो सकती है इसका अंदाजा लगा पाना अभी मुश्किल है। इस बैठक का नाम ‘विस्तारिक ट्रोइका’ (Extended Troika) है, जो की 11 अगस्त को कतर की राजधानी दोहा में होगी।

अफगानिस्तान की हालात नाज़ुक

अमेरिकी सैनिकों (American soldiers) की वापसी से अफगानिस्तान में हालात बिगड़ते नज़र आ रहे है। इसी को मद्देनज़र रखते हुए “विस्तारिक ट्रोइका” की बैठक 11 अगस्त को कतर की राजधानी दोहा में की जाएगी। इससे पहले रूस ने 18 मार्च और 30 अप्रैल को भी बैठक की थी। रूस का एक और नया कदम जिसमे रूस ने अफगानिस्तान में शांति लाने के लिए ‘मॉस्को फॉर्मेट’ (Moscow Format) का भी आयोजन किया है।

 

अमेरिका से मतभेद होने के बावजूद आमंत्रित

अमेरिका और रूस के रिश्तों में एक खटासपन। वहीं अफगानिस्तान को लेकर भी दोनों के विचार में कोई समानता देखने को नहीं मिलती, इन सब के बावजूद मॉस्को ने वॉशिंगटन को न्यौता भेजा, लेकिन भारत को नहीं। रूस के इस कदम से भारत और रूस के रिश्तों पर एक सवाल जरुर खड़ा हो गया है। बता दें कि भारत-रूस ‘शिखर सम्मेलन’ रद्द होने के बाद भी दोनों देशों के रिश्तों पर सवाल उठा था। कोरोना वायरस के कारण इसे रद्द कर दिया गया। इस बैठक में रूसी राष्ट्रपति ‘व्लादिमीर पुतिन’ खुद शामिल होने वाले थे।

इस बार भारत को थी उम्मीद

भारत और रूस के आपसी रिश्तों को लेकर रूस के विदेश मंत्री ‘सर्गेइ लावरो’ (Russian Foreign Minister Sergey Lavrov) ने पिछले महीने ताशकंद में कहा था की उनका देश, भारत और अन्य देशों के साथ काम करता रहेगा, जो अफगानिस्तान के हालात पर अच्छा असर डाल सकता है। इसके बाद ऐसा अनुमान लगया जा रहा था की भारत को आगामी ‘विस्तारित ट्रोइका’ बैठक में शामिल किया जा सकता है, लेकिन ऐसा कुछ हुआ नहीं। वहीं, भारत ने अभी तक ‘विस्तारित ट्रोइका’ बैठक पर कोई टिप्पणी नहीं की है।

यह भी पढ़े: Indian Women’s Hockey Team कांस्य पदक लेने से चूक गई, आंखों छलके आंसू, मिलेंगे 50 लाख रुपये

(Puridunia हिन्दी, अंग्रेज़ी के एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

Related Articles