भारत ने किया सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल का सफल परिक्षण, रेडार से बचकर करदेगा दुश्मन को तबाह

भारत ने किया सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल का सफल परिक्षण, रेडार से बचकर करदेगी दुश्मन को तबाह

नई दिल्ली: चीन के साथ सधी तनातनी के बीच भारत ने चीन के होश उड़ाने के लिए सुपरसोनिक क्रूज मीडियम रेंज मिसाइल ब्रह्मोस का सफल परिक्षण किया है। ऐसा रूस की मदद से हो सका है। अग्नि के सिद्धांत पर बनी इस सुपरसोनिक मिसाइल की रेंज 450KM व इसकी पारंपरिक वारहेड ले जाने की क्षमता 200 किलोग्राम तक की है। मिसाइल का सफल परीक्षण सुबह 10:27 पर आईटीआर के कॉम्पलेक्स-3 से दाग कर किया गया। सुपरसोनिक मिसाइल की लम्बाई 9 METER तथा व्यास 670MM है।  जबकि इसका भार तीन टन के आसपास है। ये मिसाइल 20KM पर अपने मार्ग को परिवर्तित करने की शक्ति रखती है।

दो नदियों पर रखा गया है सुपरसोनिक मिसाइल का नाम –

दो प्रमुख नदियों के नाम पर मिसाइल का नाम रखा गया है। भारत की ब्रह्मपुत्र और रूस की मोस्कवा नदी के नाम पर सुपरसोनिक क्रूज मीडियम रेंज मिसाइल का नाम ब्रह्मोस रखा गया है। यह सुपरसोनिक मिसाइल भारत के DRDO और रूस के NPO मशीनोस्त्रोयेनिया की साझा भागीदारी से बानी है।

सबसे तेज क्रूज मिसाइल ‘ब्रह्मोस’ –

भारत ने ब्रह्मोस देश की सबसे आधुनिक और दुनिया की सबसे तेज क्रूज मिसाइल के रूप में विकसित किया है। इस मिसाइल की खासियत है कि पहाड़ों की छाया में छिपकर बैठे दुश्मन को भी ये पलभर में नेस्तोनाबूत कर देगी।  यह एक ऐसी मिसाइल है जिसे पनडुब्बियों, जहाजों, विमानों या जमीन से दागा जा सकता है। इसे तीनों जल, थल और वायु सेनाओं में शामिल किया गया है।

ये भी पढ़ें : आयुष्मान खुराना ने देश में बढ़ते अपराधों पर दिया बयान, कहा- यह बर्बर, अमानवीय है

क्या होती है सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल –

ब्रह्मोस मिसाइल मीडियम रेंज की रेमजेट सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल है जिसे पनडुब्बियों, युद्धपोतों, लड़ाकू विमानों और जमीन से पाछेपित की जा सकती है। क्रूज मिसाइल उसे कहते हैं जो कम ऊंचाई पर तेजी से उड़ान भरती है और रडार की नज़रों से बचकर दुश्मन को धराशायी कर देती है।

चीन की सेना भी मानती है ब्रह्मोस का लोहा –

चीन भी ब्रह्मोस का लोहा मानता है। इसका अंदाज़ा इस बात से लगाया जा सकता है। अरुणांचल प्रदेश की सीमा पर ब्रह्मोस की तैनाती से चीन को उसके तिब्बत और यूनान प्रांत पर खतरा मंडराने लगा है। ऐसा चीन खुद कहता है। अब ये बात बताती है कि ब्रह्मोस की शक्ति कितनी है।

Related Articles