भारत ने अमेरिका से लिया टू प्लस टू का बदला, दूसरा ऑफर भी ठुकराया

0

नई दिल्ली: भारत ने अमेरिका से टू प्लस टू का बदला ले लिया है। दरअसल, भारत ने अमेरिका के बैठक के ऑफर को ठुकरा दिया है। इसके पहले बीते छह जुलाई को विदेश मंत्री सुषमा स्वराज और रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण की अमेरिकी समकक्ष के साथ बैठक होनी थी, लेकिन अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पोम्पिओ और रक्षा मंत्री जेम्स मैटिस ने माफी मांगते हुए इस बैठक को रद्द कर दिया था। अब जब अमेरिका ने भारत के सामने बैठक का प्रस्ताव रखा है तो भारत ने साफ़ इनकार कर दिया है।

सूत्रों की माने तो, टू प्लस टू बैठक रद्द होने के बाद अमेरिका ने सिर्फ भारत की रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण के साथ अमेरिका के रक्षा मंत्री जेम्स मैटिस की मुलाकात की पेशकश की थी, जिसे भारत ने ठुकरा दिया है।

भारत का कहना है कि अमेरिका का यह ऑफर स्वीकार करना टू प्लस टू बैठक की मंशा की हत्या करने के बराबर है। भारत की मांग थी कि इस बैठक में दोनों देशों के रक्षा मंत्री और विदेश मंत्री शामिल हो लेकिन अमेरिका का कहना है कि किन्ही कारणों से अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पिओ बैठक में शैल नहीं हो सकते हैं इसलिए बैठक केवल रक्षा मंत्रियों के बीच में की जाए।

हालांकि भारत ने अमेरिका के साथ ये बैठक करने से इंकार कर दिया है। भारत टू प्लस टू के फॉर्मेट में ही बात करने का इच्छुक है, जिस कारण फिलहाल दोनों देशों के बीच होने वाली वार्ता टल चुकी है। बताया जा रहा है कि नई बैठक का ऐलान जल्द ही हो सकता है, हालांकि अभी तक इसकी तारीख तय नहीं है। माना जा रहा है कि यह बैठक इस बार दिल्ली में हो सकती है।

गौरतलब है कि भारत और अमेरिका के बीच टू प्लस टू बैठक का ऐलान बीते साल अगस्त में पीएम मोदी और अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के बीच फोन पर हुई बातचीत के बाद किया गया था। इस टू प्लस टू बैठक का मकसद दोनों देशों के बीच रणनीतिक साझेदारी को मजबूत करना, सुरक्षा और डिफेंस में सहयोग बढ़ाना था। उल्लेखनीय है कि टू प्लस टू बैठक दूसरी बार रद्द हुई है, इससे पहले बीते अप्रैल में भी दोनों देशों के बीच यह बैठक रद्द हो चुकी है। दरअसल उस वक्त भी अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पोम्पिओ की उनके पद पर नियुक्ति नहीं हुई थी, जिसके चलते अमेरिका ने यह बैठक रद्द कर दी थी।

 

loading...
शेयर करें