Indian Navy Day 2020: मोदी ने दी जवानों को बधाई, जानें इस दिन का इतिहास और महत्व

Indian Navy Day पर प्रधानमंत्री मोदी, अमित शाह और रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने दी जवानों को बधाई

नई दिल्ली: भारतीय नौसेना दिवस (Indian Navy Day) पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृह मंत्री अमित शाह और रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने देश के जवानों को नौसेना दिवस की बधाई दी है। सन् 1971 में भारत और पाकिस्तान के बीच हुए युद्ध में भारतीय नौसेना की जीत हुई थी। इसी कारण साल 4 दिसंबर के दिन जश्न के रूप में भारतीय नौसेना दिवस मनाया जाता है।

मोदी का जवानों को संदेश

पीएम मोदी ने अपने ट्वीट संदेश में कहा, “सभी नौसैनिकों और उनके परिवार जनों को नौसेना दिवस की बधाई। नौसेना निर्भय होकर हमारे तटों की रक्षा कर रही है तथा जरूरत के समय मानवीय सहायता भी प्रदान कर रही है। यह देश की समृद्ध सामुद्रिक परंपरा को याद करने का भी मौका है।

ऑपरेशन ट्राइडेंट

पाकिस्तानी सेना ने 3 दिसंबर 1971 को भारतीय हवाई क्षेत्र और सीमावर्ती क्षेत्र में हमला किया था। पाकिस्तान को मुंह तोड़ जवाब देने के लिए ‘ऑपरेशन ट्राइडेंट’ चलाया गया। यह अभियान पाकिस्‍तानी नौसेना के कराची स्थित मुख्‍यालय को निशाने पर लेकर शुरू किया गया था। एक मिसाइल नाव और दो युद्ध-पोत की एक आक्रमणकारी समूह ने कराची के तट पर जहाजों के समूह पर हमला कर दिया था। इस युद्ध में पहली बार जहाज पर मार करने वाली ‘एंटी शिप मिसाइल’ से हमला किया गया था। इस हमले में पाकिस्तान के कई जहाज नष्ट कर दिये थे।

राजनाथ सिंह ने दी बधाई

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा, “नौसेना दिवस के मौके पर इस असाधारण बल के सभी नौसैनिकों को बधाई और शुभकामनाएं । नौसेना हमारे समुद्र की रक्षा का मोर्चा संभाले हुए है और समुद्री सुरक्षा सुनिश्चित करती है । मैं उनकी वीरता, साहस और पेशेवर शैली को नमन करता हूं।”

ईस्ट इंडिया कंपनी का मरीन  

(Indian Navy) भारतीय सेना का मुख्य अंग है जिसकी स्थापना 1612 में हुई थी। ईस्ट इंडिया कंपनी ने अपने जहाजों की सुरक्षा के लिए (East India Company’s Marine) ईस्ट इंडिया कंपनी का मरीन  के रूप में सेना गठित की थी। जिसे बाद में रॉयल इंडियन नौसेना नाम दिया गया। भारत की आजादी के बाद 1950 में नौसेना का गठन फिर से हुआ और इसे भारतीय नौसेना नाम दिया गया।

शाह ने दिया जवानों को संदेश

अमित शाह ने अपने संदेश में कहा, “ नौसेना दिवस पर सभी साहसी नौसैनिकों और उनके परिजनों को मेरी तरफ से बधाई। भारत को समुद्री सीमाओं की रक्षा करने तथा आपदाओं के समय राष्ट्र की सेवा करने को प्रतिबद्ध नौसेना पर गर्व है।”

पाकिस्तान के खिलाफ लड़ाई

1971 में पाकिस्तान के खिलाफ लड़ाई के दौरान नौसेना ने आज ही के दिन अद्भुत पराक्रम का प्रदर्शन करते हुए दुश्मन को नाकों चने चबाये थे। नौसेना ने अपनी मारक क्षमता का प्रदर्शन करते हुए कराची बंदरगाह को तहस-नहस कर दिया था। नौसेना के इस पराक्रम की याद में हर वर्ष चार दिसंबर को नौसेना दिवस के रूप में मनाया जाता है। इस युद्ध में पाकिस्तान को करारी हार का सामना करना पड़ा था। इस जोरदार विजय के अगले साल 50 वर्ष पूरे हो जाएंगे। इस उपलक्ष में इस वर्ष को स्वर्णिम विजय वर्ष के रूप में मनाया जा रहा है।

Related Articles

Back to top button