हमास के रॉकेट हमले में गई भारतीय महिला की जान, शव आया भारत

गाजा से दागे गए रॉकेट के हमले में मारी गई श्रीमती सौम्या संतोष के पार्थिव शरीर को इजराइल से नई दिल्ली होते हुए केरल लाया जा रहा है।

नई दिल्ली: इजराइल में गाजा से फलस्तीनी उग्रवादियों के रॉकेट हमले में मारी गई भारतीय नर्स सौम्या संतोष का शव आज शनिवार को सुबह भारत आ गया है। दिल्‍ली एयरपोर्ट पर मौजूद केंद्रीय मंत्री वी मुरलीधरनऔर नई दिल्‍ली में इजराइली मिशन के डिप्‍टी राजदूत के प्रतिनिधि ने सौम्या संतोष के शव को फूलमाला अर्पित कर श्रद्धांजलि दी है।

इजराइल से शुक्रवार शाम में सौम्या संतोष का शव भारत भेजा गया। 30 वर्षीय सौम्या के शव को लेकर विमान बेन गुरियन हवाई अड्डे से शुक्रवार शाम करीब सात बजे भारत रवाना हुआ। विमान के शनिवार सुबह नई दिल्ली एयरपोर्ट पर पहुंच गया। इजराइल स्थित भारतीय दूतावास ने ट्वीट करके इस बात की जानकारी दी। दिल्‍ली से केरल पहुंचने के बाद सौम्‍या संतोष के पार्थिव शरीर का अंतिम संस्‍कार किया जाएगा।

मुरलीधरन ने भी किया ट्वीट

आपको बता दें कि विदेश राज्यमंत्री वी मुरलीधरन ने भी ट्वीट करते हुए कहा है कि सौम्या के शव को इजराइल से नई दिल्ली होते हुए केरल लाया जा रहा है। मुरलीधरन ने टि्वटर पर लिखा, ‘‘गाजा से दागे गए रॉकेट के हमले में मारी गई श्रीमती सौम्या संतोष के पार्थिव शरीर को इजराइल से नई दिल्ली होते हुए केरल लाया जा रहा है। सौम्या के पार्थिव शरीर को कल ही उनके पैतृक स्थान पहुंचाया जाएगा। मैं व्यक्तिगत तौर पर नई दिल्ली में मौजूद रहूंगा। उनकी आत्मा को शांति मिले।”

बता दें कि सौम्या की मौत फलस्तीन की ओर से किए गए रॉकेट हमले में हुई थी।  सौम्या केरल की  इदुक्की जिले की रहने वाली थी। 30 साल की सौम्या इजराइल में एक वृद्ध महिला की देखभाल का काम कर रही थी। इजराइल के अश्केलोन शहर में रहने वाली सौम्या मंगलवार को वीडियो कॉल के जरिए अपने पति संतोष से बात कर रहीं थीं कि तभी उनके घर पर एक रॉकेट गिरा। सौम्या का एक नौ साल का बेटा भी है।

यह भी पढ़ें: भारतीय टीम का युवा ओपनिंग बल्लेबाज, बन सकता है दूसरा Virender Sehwag

Related Articles

Back to top button