Indian Women’s Hockey Team कांस्य पदक लेने से चूक गई, आंखों छलके आंसू, मिलेंगे 50 लाख रुपये

टोक्यो ओलंपिक 2020 में भारत और ब्रिटेन के बीच महिला हॉकी में कांस्य पदक के लिए हुए मुकाबले में भारत ब्रिटेन से 4-3 से हार गई

टोक्यो: टोक्यो ओलंपिक (Tokyo Olympics) 2020 में भारत (India) और ब्रिटेन (Britain) के बीच महिला हॉकी में कांस्य पदक (Bronze Medal) के लिए हुए मुकाबले में भारत ब्रिटेन से 4-3 से हार गई। हालांकि हार के बावजूद भारतीय महिला हॉकी टीम (Indian Women’s Hockey Team) इतिहास रचने में सफल रही। महिला हॉकी टीम ने अपने शानदार प्रदर्शन से सभी का दिल जीत लिया है। जिसके लिए उन्हें देश के राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बेहतरीन प्रदर्शन के लिए शुभकामानाएं दी हैं।

50 लाख रुपये का इनाम

हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर (Manohar Lal Khattar) ने कहा ब्रिटेन की टीम बहुत कम अंतर से जीत पाई है। भारत की टीम ने बहुत बेहतरीन प्रदर्शन किया। मैं हॉकी टीम में हरियाणा की सभी 9 खिलाड़ियों को 50 लाख रुपये का इनाम देने की घोषणा करता हूं।

रोमांचक मुकाबला

इंग्लैंड के लिए एलेना रेयर 6वें, सारा राबर्टसन 24वें, होली पिएरे 35वें और ग्रेस बॉल्सडन 48वें ने किया जबकि भारत के लिए गुरजीत कौर ने 25वें, 26वें दो गोल किए। जबकि वंदना कटारिया 29वें ने एक गोल किया। ब्रिटेन को 12 पेनाल्टी कार्नर मिले, जिसमें से तीन को उसने गोल में बदला। भारत को कुल 8 पेनाल्टी कार्नर मिले, जिनमें से 2 में गोल हुए। पहला क्वार्टर खाली जाने के बाद ब्रिटेन ने दूसरे क्वार्टर में 60 सेकेंड के भीतर गोल करते हुए 1-0 की लीड ले ली। उसके लिए मैच का पहला गोल एलेना रेयर ने किया। ये एक फील्ड गोल था। जिसके बाद 24वें मिनट में एक और गोल कर 2-0 की लीड ले ली।

हाफटाइम खत्म होने से 5 मिनट पहले भारत ने एक के बाद एक लगातार तीन गोल कर 3-2 की लीड ले ली। गुरजीत कौर ने भारत का खाता 25वें मिनट में मिले पेनाल्टी कार्नर पर खोला और फिर उसके एक मिनट बाद एक और गोल कर स्कोर 2-2 कर दिया। भारत ने पेनाल्टी कार्नर पर गुरजीत द्वारा किए गए गोलों की मदद से शानदार वापसी कर ली थी। अब भारतीय टीम उत्साह से भर चुकी थी। उसने मौके बनाने शुरू किए और उसी क्रम में उसे 29वें मिनट में एक शानदार सफलता मिली। वंदना कटारिया ने फील्ड गोल के जरिए भारत को 3-2 से आगे कर दिया।

 

चौथा और अंतिम क्वार्टर

हाफ टाइम तक भारत 3-2 से आगे था। हाफ टाइम की सीटी बजने के 5 मिनट बाद ही ब्रिटेन ने गोल कर स्कोर 3-3 कर दिया। यह गोल कप्तान होली पिएरे ने किया। तीसरे क्वार्टर में भारतीय टीम कोई गोल नहीं कर सकी। चौथा और अंतिम क्वार्टर जब शुरु हुआ तो मैच का रोमांच चरण पर था। दोनों टीमों के पास मेडल पाने के लिए अंतिम 15 मिनट थे। इस क्रम में हालांकि ब्रिटेन को सफलता मिल गई। 48वें मिनट में उसने पेनाल्टी कार्नर पर गोल कर 4-3 की लीड ले ली। यह गोल ग्रेस बॉल्सडन ने किया।

भारत की महिला टीम के लिए यह ओलंपिक में अब तक का सबसे अच्छा प्रदर्शन कहा जा सकता है। दुनिया की 9वें नंबर की भारतीय टीम तमाम अटकलों पर विराम लगाते हुए दुनिया की नंबर-2 ऑस्ट्रेलिया को हराकर पहली बार ओलंपिक के सेमीफाइनल में पहुंची थी। सेमीफाइनल में हालांकि उसे हार मिली।

 

टीम पर गर्व

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद (President Ram Nath Kovind) टीम की तारीफ करते हुए बोले भारतीय महिला हॉकी टीम ने मैदान पर शानदार प्रदर्शन किया और अपने शानदार प्रदर्शन से हर भारतीय का दिल जीता। हमें आप सभी पर गर्व है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने कहा हम टोक्यो ओलंपिक में अपनी महिला हॉकी टीम के शानदार प्रदर्शन को हमेशा याद रखेंगे। उन्होंने अपना सर्वश्रेष्ठ दिया। भारत को इस शानदार टीम पर गर्व है।

यह भी पढ़ेAcharya Swami Vivekananda : क्या आपकी व्यावसायिक यात्रा कल सफल होगी?

(Puridunia हिन्दीअंग्रेज़ी के एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

Related Articles