पीएम मोदी ने किया ऐलान- इराक में मारे गए भारतीयों को मिलेगी 10 लाख की आर्थिक मदद

नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इराक के मोसुल में मारे गए 39 भारतीय नागरिकों के परिवारों को 10 लाख रुपये की आर्थिक सहायता देने का ऐलान किया है। इन भारतीय नागरिकों को मोसुल में आतंकी संगठन इस्लामिक स्टेट (आईएस) द्वारा मौत के घाट उतार दिया गया था। बीते दिन विदेश राज्य मंत्री जनरल वीके सिंह इन भारतीय नागरिकों के अवशेष लेकर सोमवार को भारत पहुंचे थे।

आपको बता दें कि इस्लामिक स्टेट ने जून 2014 में मोसुल पर कब्जा करने के बाद 39 भारतीयों की हत्या कर दी थी, लेकिन 38 भारतीयों के पार्थिव अवशेष ही वापस लाए गए हैं क्योंकि एक शव की पहचान अभी भी बाकी है। वीके सिंह बगदाद वायुसेना के विशेष विमान सी 17 ग्लोबमास्टर इन  भारतीयों के अवशेष लेकर सोमवार को भारत लेकर आए। बगदाद में इन वीके सिंह ने खुद अवशेषों को ताबूत में पैक किया। उसके बाद ताबूत अपने हाथ से उठाकर जहाज के अंदर रखे।

इन 38 पार्थिव अवशेषों में पंजाब के 27 और हिमाचल प्रदेश के चार लोगों के ताबूत अमृतसर हवाईअड्डे पर संबंधित अधिकारियों को सौंप दिए गए, जबकि सात ताबूतों को अन्य विमान से पश्चिम बंगाल (3) और बिहार (4) भेज दिया गया।

अमृतसर एयरपोर्ट पर मारे गए लोगों के परिजनों की तरफ से मुआवजे की मांग किए जाने के सवाल पर विदेश राज्य मंत्री ने कहा था कि ये बिस्कुट बांटने वाला काम नहीं है। विदेश राज्य मंत्री के इस बयान के बाद विपक्षी पार्टी कांग्रेस ने केंद्र सरकार पर जमकर निशाना साधा है।

विदेश राज्यमंत्री वीके सिंह ने कहा कि इराक में आतंकवादी समूह आईएसआईएस द्वारा बंधक बनाए गए 40 भारतीयों का कोई भी रिकॉर्ड किसी दूतावास में नहीं है क्योंकि वे वहां ट्रैवल एजेंट के माध्यम से अवैध रूप से गए थे।

अमृतसर हवाईअड्डे पर वीके सिंह ने मीडिया से बातचीत करते हुए इराक का आभार जताया था। उन्होंने कहा था कि हम पीड़ितों का पता लगाने और शवों को जमीन से खोदकर निकालने के लिए इराक की मदद के आभारी हैं। लापता भारतीयों की खोज के लिए भारत सरकार ने सर्वश्रेष्ठ प्रयास किए।

Related Articles