कॉल सेंटर में कार्य करने वाले भारतीय हो रहे नस्‍लभेदी का शिकार, तनाव में रहकर नौकरी करने पर मजबूर  

0

नई दिल्ली। काल सेंटरों में काम कर रहे कर्मचारी के रूप में युवा आज कल नस्‍लभेदी के शिकार हो रहे हैं। ऐसी कई घटनाएं सामने आ रही है कि काल रिसीव करने के बाद जब उसका फोन कटता है तो वह वासरूप में जाकर आंसू बहाते हैं। कई लड़कियां तो वहां पर जाकर अकेले में रोती हैं। इसके बाद वह मुंह साफ कर फिर अपने डेस्‍क में पर आती हैं। यह सब एक शोध से सामने आया है।

मिली जानकारी के अनुसार यह एक केवल दिल्‍ली, नोएडा के काल सेंटरों का हाल नहीं बल्‍कि पूरे देश के सभी कालसेंटरों का यही हाल है। बता दें कि देश को भले ही कॉल सेंटर्स का हब माना जाने लगा हो, लेकिन देश-विदेश को सर्विस उपलब्ध करा रहे बीपीओ कर्मचारी तनाव में रहते हैं। विदेशों से कई ऐसी काल आती हैं जिनमें उन्हें नस्लवादी टिप्पणियों की जाती हैं। इतना ही नहीं अमेरिका जैसे देशों से आई काल में उन्‍हें चोर तक कहा जात है।

यह भी पढ़े-  मात्र  4,299 रूपये की कीमत में एम-टेक ने लांच किया अपना यह शानदार फोन

‘बिजनेस प्रोसेस आउटसोर्सिग (बीपीओ) सेंटर्स इन इंडिया’ की ताजा रिपोर्ट के अनुसार यह बात कही गयी है। इन घटनाओं के बाद काम कर रहे कर्मचारी काफी तनाव में रहते हैं। इंग्लैंड की यूनिवर्सिटी ऑफ केंट की श्वेता राजन ने यह रिपोर्ट तैयार की है। इनके मुताबिक एक कॉल सेंटर वर्कर को हर रोज  ‘अपशब्द सुनने पड़ते हैं।

loading...
शेयर करें