नए साल में भारत की जीडीपी नौ फीसद रहने का अनुमान : Icra

नई दिल्ली : रेटिंग एजेंसी Icra ने 2022 के भारत के जीडीपी ग्रोथ अनुमान को बढ़ाकर नो फीसदी कर दिया है।इस कड़ी में आपकी जानकारी के लिए  बता दें कि इसके पहले इसी एजेंसी ने साल 2022 में भारत के जीडीपी के 8.5 फीसदी पर रहने का अनुमान ज़ाहिर किया था।

Icra ने अपने पुराने अनुमान को बदला

जानकारों के मुताबिक  2020-21 में 7.3 फीसदी सिमटने  के बाद 2021-22 में जीडीपी ग्रोथ रेट के ऊंचे स्तर पर रहने का अनुमान किया गया था। हालांकि इसी साल में कोरोना की दूसरी लहर के झटके एनालिस्ट को परेशानी में डाल दिया था। आरबीआइ का भी अनुमान की इस साल इकोनॉमी में 9.5 फीसदी की दर से ग्रोथ देखने को मिलेगी।

एजेंसी की ही चीफ इकोनॉमिस्ट अदिति नायर का कहना है कि कोरोना के बढ़ते कवरेज से बाजर के सेंटीमेंट को और बूस्ट मिलने की संभावना है। इसके चलते कॉन्ट्रैक्ट इनटेन्सिव सर्विस में भी तेजी आएगी। ऐसा होने पर इकोनॉमी के उस हिस्से को सबसे ज्यादा फायदा होगा जो कोरोना की मार से सबसे ज्यादा प्रभावित था। उन्होंने आगे कहा कि खरीफ की फसल के अच्छे रहने का अनुमान है। इससे आगे कृषि क्षेत्र में मांग और खपत में मजबूती रहने की उम्मीद है।

इसके अलावा विकास और बुनियादी इंफ्रा पर केंद्र सरकार के बढ़ते खर्च से भी इकोनॉमी में तेजी आती दिखी। उन्होंने यह भी कहा कि इस सबके बावजूद ग्रोथ को लेकर सबसे बड़ी चिंता कोरोना की तीसरी लहर और कोरोना वायरस के किसी नए वर्जन पर वैक्सीन के अप्रभावी हो जाने से जुड़ी हुई है। अगर ऐसा होता है तो 9 फीसदी जीडीपी ग्रोथ का अनुमान सही साबित नहीं होगा।

यह भी पढ़ें : Panchjanya ने ईस्ट इंडिया कंपनी से की अमेजॉन की तुलना

 

Related Articles