चीन से तनातनी के बीच बढ़ी भारत की ताकत, पिनाका रॉकेट का सफल परीक्षण

यह परीक्षण ओड़िशा स्थित एकीकृत परीक्षण केंद्र चांदीपुर से 4 बुधवार को किया गया. डीआरडीओ द्वारा विकसित पिनाका प्रणाली में नया रॉकेट पहले की तुलना में न केवल ज्यादा दूरी तक सटीक निशाना लगा सकता है

नयी दिल्ली: रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (डीआरडीओ) ने पिनाका रॉकेट प्रणाली के अत्याधुनिक रॉकेट का सफलतापूर्वक परीक्षण किया है.

यह परीक्षण ओड़िशा स्थित एकीकृत परीक्षण केंद्र चांदीपुर से 4 बुधवार को किया गया. डीआरडीओ द्वारा विकसित पिनाका प्रणाली में नया रॉकेट पहले की तुलना में न केवल ज्यादा दूरी तक सटीक निशाना लगा सकता है, बल्कि उसकी लंबाई भी पिछले रॉकेट की तुलना में कम है. रॉकेट का डिजाइन और लंबाई संबंधित काम डीआरडीओ की प्रयोगशाला पुणे में किया गया है. पुणे स्थित इस संस्थान को ऑर्मामेंट रिसर्च एंड डेवलपमेंट एस्टैब्लिशमेंट, एआरडीई और हाई एनर्जी मैटेरियल्स रिसर्च लैबरोटरी, एचईएमआरएल के नाम से जाना जाता है.

इस दौरान एक के बाद एक छह रॉकेट का सफल परीक्षण किया गया. परीक्षण किए गए प्रौद्याेगिकी हस्तांतरण के बाद रॉकेट मेसर्स इकोनॉमिक एक्सप्लोसिव लिमिटेड नागपुर द्वारा बनाये गये हैं. परीक्षण के दौरान रॉडार और इलेक्ट्रो ऑप्टिकल ट्रैकिंग सिस्टम तथा टेलीमेट्री उपकरणों द्वारा राकेट की निगरानी की गयी.

पिनॉका प्रणाली के तहत अत्याधुनिक रॉकेट पिनाका एमके-1 रॉकेट की जगह लेंगे. जो अभी उत्पादन प्रक्रिया में हैं.

चीन से तनातनी के बीच बढ़ रही भारत की सैन्य ताकत

भारतचीन सीमा पर बढ़ते तनाव के बीच अपनी सैन्य ताकत को और ज्यादा मजबूत करने के लिए रक्षा मंत्रालय आए दिन ही देश की सेनाओं की ताकत को बढ़ा रहा है. इससे पाकिस्तान और चीन की टेंशन बढ़ सकती है. बता दें कि पहाड़ी इलाकों में युद्ध के दौरान छिपे दुश्मनों पर वार करने के लिए पिनाका मिसाइल सिस्टम बेहद कारगर हथियार साबित होता है.

यह भी पढ़े: सानिया मिर्जा ने कहा- फेडरर और नडाल में से कौन है बेहतरीन

 

Related Articles

Back to top button