क्रिकेट के इतिहास में पहली बार हेलमेट पहनकर अंपायरिंग

कैनबरा। कैनबरा में IndvsAus के बीच चौथा वनडे मैच खेला जा रहा है। इस मैच को इतिहास के पन्‍नों पर लिखा जाऐगा। क्‍योंकि अंतर्राष्ट्रीय मैच में पहली बार कोई ऑन फील्ड अंपायर हेलमेट पहनकर उतरा। IndvsAus मैच के दौरान ऑस्ट्रेलियाई अंपायर जॉन डेविड वार्ड कैनबरा वनडे मैच में हेलमेट पहनकर मैदान में अंपायरिंग करने उतरे।

IndvsAus

IndvsAus से पहले भी कर चुके हैं अंपायरिंग

वार्ड के साथ इस IndvsAus मैच में इंग्लैंड के जॉन केटरबर्ग भी अंपायर हैं। वार्ड इंटरनेशनल मैच में हेलमेट पहनकर अंपायरिंग करने वाले पहले अंपायर बन गए हैं। IndvsAus मैच में अंपायरिंग कर रहे वार्ड ने बताया कि पिछले साल भारत के घरेलू रणजी ट्राफी मुकाबले के दौरान 53 वर्षीय उन्‍हें सिर में गेंद लगी थी जिससे वह चोटिल हो गए थे। वार्ड ने इस महीने ऑस्ट्रेलिया बिग बैश में अंपायरिंग कर वापसी की। वह बिग बैश के दौरान भी हेलमेट पहनकर आए थे। वह 6 ट्वंटी-20 मैचों में भी अंपायरिंग कर चुके हैं।

IndvsAus

इन क्रिकेटर्स की मौत मैदान पर लगी चोट से हुई

फिलिप ह्यूज़

ऑस्ट्रेलिया के इस बल्लेबाज़ को शॉन एबट की बॉल सर पे लगने से चोट लगी। यह मैच साउथ ऑस्ट्रेलिया और न्यू साउथ वेल्स के बीच खेला जा रहा था। बॉल लागने से उनके सर की हड्डी टूट गई और इससे उनके दिमाग में काफी खून का बहाव हुआ। उनको इसके बाद सिडनी हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया। कुछ दिन हॉस्पिटल में रहने के बाद उनकी मौत हो गई। उनकी मौत से क्रिकेट जगत को एक बड़ा झटका लगा।

रमन लांबा

रमन भारत के इंटरनेशनल खिलाड़ी थे। फॉरवर्ड शॉर्ट लेग पर फील्डिंग करते हुए उन्हे बॉल सर पे लगी। वो ढाका में एक क्लब मैच खेल रहे थे। वो तीन दिनों तक कोमा में रहे, और उसके बाद उनकी मृत्यु हो गई। लांबा की उम्र उस समय 38 साल थी। उन्होने फ़र्स्ट-क्लास क्रिकेट में 8000 रन बनाए थे, वो दिल्ली के खिलाड़ी थे। उनका औसत 53.83 का था। वो भारत के लिए 32 वन डे और 4 टेस्ट खेले थे।

डैरिन रैंडोल

डैरिन रैंडोल को पुल शॉट खेलते हुए बॉल उनके सर पे लगी, वो साउथ अमेरिका की एक घरेलू सीरीज़ में खेल रहे थे। विकेट-कीपर बल्लेबाज़ उसी समय ज़मीन पर गिर गए, हालांकि उन्हे जल्द हॉस्पिटल ले जाया गया पर तब तक उनकी मृत्यु हो चुकी थी।

ज़ुल्फिकर भट्टी

ज़ुल्फिकर भट्टी की मौत तब हुई जब वो 22 साल के थे। वो पाकिस्तान, सिंध के सुक्कुर में टी-20 मैच खेल रहे थे, उन्हे छाती पर बॉल लगी। उन्हे हॉस्पिटल ले जाया गया, लेकिन वहाँ उन्हे मृत घोषित किया गया।

रिचर्ड बैमोंट

रिचर्ड, इंग्लिश काउंटी के एक खिलाड़ी थे। उन्होने इस मैच में 5 विकेट भी लिए थे। वो उस समय 33 साल के थे। ऐसा पता चला की उन्हे मैदान पर ही हार्ट-अटैक आया था। और इसी कारण उनकी मृत्यु हुई।

ए जेंकिंस

यह शायद क्रिकेट इतिहास का सबसे अजीब एक्सिडेंट हो सकता है। अंपायर ए जेंकिंस 72 साल की उम्र में स्वानसी और लैंगेनेच के बीच चल रहे मैच में अंपायर थे। उन्हे एक फील्डर की थ्रो लगी और इसी कारण हॉस्पिटल में उनकी मृत्यु हुई।

वसीम राजा

70 और 80 के दशक में वसीम राजा पाकिस्तान के लिए काफी क्रिकेट खेले। उन्होने पाकिस्तान के लिए 57 टेस्ट में 36.16 के औसत से 2,821 रन बनाए थे। इंग्लिश काउंटी में सरे के लिए खेलते हुए उन्हे हार्ट अटैक आया और उनकी मौत हो गई।

इयन फोलि

इयन फोलि इंग्लिश खिलाड़ी थे, जो लैंकाशायर और डर्बीशायर के लिए खेले। 30 साल की उम्र में बैटिंग करते हुए उन्हे बॉल आँख के नीचे लगी, और वो घायल हो गए। उन्हे लोकल हॉस्पिटल ले जाया गया, लेकिन हार्ट अटैक आने से उनकी मौत हो गई। वो एक स्पिनर थे।

विल्फ स्लैक

विल्फ स्लैक इंग्लिश खिलाड़ी थे, जो अपने देश के लिए 3 टेस्ट और 2 वन डे खेले। वो उल्टे हाथ से खेलने वाले बल्लेबाज़ थे, 15 जनवरी 1989 को ज़ाम्बिया के लिए खेलते हुए उन्हे हार्ट-अटैक आया, और उनकी मृत्यु हुई।

अब्दुल अज़ीज़

अब्दुल अज़ीज़ पाकिस्तानी खिलाड़ी थे। जिन्होने कराची के लिए आठ फ़र्स्ट-क्लास मैच खेले, वो विकेट-कीपर बल्लेबाज़ थे। कायद-ए-आज़म फ़ाइनल में खेलते हुए उन्हे ऑफ-स्पिनर दिलद्वार अवान की बॉल दिल के पास लगी। इसका असर जल्दी नहीं दिखा, लेकिन अगली बॉल खेलते हुए वो नीचे गिर गए और फिर कभी नहीं उठे। उन्हे हॉस्पिटल में मृत घोषित किया गया।

एंडी डुकट

एंडी डुकट एक मात्र ऐसे इंसान हैं जिन्होने अपने देश के लिए क्रिकेट और फुटबॉल दोनों खेला। डुकट को 1920 में विस्डन क्रिकेटर ऑफ द इयर से सम्मानित भी किया गया था, उन्होने इंग्लैंड के लिए मात्र एक टेस्ट ही खेला था। उन्होने हालांकि फ़र्स्ट क्लास क्रिकेट में काफी अच्छा प्रदर्शन किया था। उन्होने 429 मैच खेलते हुए 23,373 बनाए थे, यहाँ उनका औसत 40 का रहा। उनकी मृत्यु 1942 में लॉर्ड्स पे मैच खेलते हुए हार्ट-अटैक के कारण हुई।

जॉर्ज समर्स

जॉर्ज समर्स एक ऐसे खिलाड़ी थे जिन्होने बस फ़र्स्ट क्लास क्रिकेट ही खेले थे, वो नोट्टिंघमशायर के खिलाड़ी थे। 1870 में लॉर्ड्स पे एमएमसी के खिलाफ खेलते हुए उन्हे फास्ट बॉलर जॉन प्लैट्स की बॉल सर पर लगी। हालांकि वो उस समय सही हो गए, जिस कारण उन्हे हॉस्पिटल नहीं ले जाया गया, लेकिन बाद में ये निर्णय गलत साबित हुए, क्योंकि चार दिन बाद ही उनकी मृत्यु हो गई।

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button