नए साल की खुशियों पर होगी महंगाई की मार, मोदी सरकार के इस कदम से गरीब परेशान

इस बार नया साल खुशियां नहीं बल्कि महंगाई की मार लेकर आने वाला है.

इस बार नया साल खुशियां नहीं बल्कि महंगाई की मार लेकर आने वाला है. पहले ही महंगाई से हलकान गरीबों के लिए नए साल में कपड़े और जूते खरीदना महंगा होने जा रहा है. खासकर वैसे कपड़ों और जूतों पर जीएसटी एक जनवरी से बढ़ने वाली है, जो गरीबों के बजट में आती हैं.

1000 से कम के कपड़ों-जूतों पर बढ़ा टैक्स

जीएसटी काउंसिल ने सितंबर में हुई आखिरी बैठक में कुछ सामानों पर कर की दर बदलने का निर्णय लिया था. ये बदलाव एक जनवरी से अमल में आने जा रहे हैं. इसके चलते नए साल की शुरुआत से 1000 रुपये से कम दाम वाले कपड़ों पर जीएसटी की दर पांच फीसदी से बढ़कर 12 फीसदी हो जाएगी. इसी तरह 1000 रुपये से कम के जूते भी महंगे हो जाएंगे, क्योंकि अब इनपर भी पांच फीसदी के बजाय 12 फीसद जीएसटी लगेगा.

हैण्डलूम के सारे प्रोडक्ट भी महंगे

एक जनवरी से बुने हुए कपड़ों समेत हैण्डलूम के सारे प्रोडक्ट भी महंगे हो जाएंगे. इनके ऊपर भी अब पांच के बजाय 12 फीसदी जीएसटी लगेगा. इनके अलावा जीएसटी काउंसिल ने सिलाई में इस्तेमाल होने वाले धागों की कई वेराइटी पर भी कर बढ़ाने का फैसला किया है. इससे रेडीमेड कपड़ों के साथ ही सिलाकर कपड़े पहनना महंगा हो जाएगा. यह गरीबों पर सीधा असर डालेगा.

यह भी पढ़ें- 100 मुर्दा लाशों के साथ बनाए थे संबंध, अब मिली ये खौफनाक सजा

(Puridunia हिन्दी, अंग्रेज़ी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब  पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)…

 

Related Articles