संयुक्‍त राष्‍ट्र में हिंदी को अधिकारिक भाषा बनाने की गई पहल, लोकसभा में मचा हंगामा

0

नई दिल्ली| केंद्र में भाजपा की सरकार बनते विश्‍व स्‍तर पर योग को पहचान मिली है। इसी का नतीजा है कि आज पूरे विश्‍व में योग अंतरषट्रीय स्‍तर पर बनाया जाता है। इस सफलता के बाद मोदी सरकार लगातार लगी हुई है कि  संयुक्त राष्ट्र में हिंदी को अधिकारिक भाषा बनाई जाई। इसी मुद्दे पर लोकसभा में विदेश मंत्री सुषमा स्वराज और कांग्रेस नेता शशि थरूर के बीच तीखी नोक-झोंक देखी गयी।

मीडिया में आई खबरों के मुताबिक थरूर ने इसकी जरूरत पर कई सवाल उठाए। जिसपर मंत्री ने उन्‍हें उन्हें ‘अज्ञानी (इग्नोरेंट)’ कहा। इसी दौरान सुषमा स्वराज ने एक सवाल के जवाब में कहा, “यह प्राय: पूछा जाता है कि संयुक्त राष्ट्र में हिंदी एक अधिकारिक भाषा क्यों नहीं है। इस पर सदन में कहा कि मै बताना चाहूंगी कि इसके लिए सबसे बड़ी समस्या नियम है।”

आपको बता दें कि मंत्री ने कहा सदन में आवजा बुलंद करते हुए कहा कि नियम के अनुसार, “संगठन के 193 सदस्य देशों के दो तिहाई सदस्यों यानी 129 देशों को हिंदी को अधिकारिक भाषा बनाने के पक्ष में वोट करना होगा और इसकी प्रक्रिया के लिए वित्तीय लागत भी साझा करने होंगे।” साथ विदेश मंत्री ने एक लिखित जवाब पेश करते हुए कहा कि संयुक्‍तराष्‍ट्र में हिंदी को अधिकारिक मान्‍यता दिलाने के लिए 129 देशों के संपर्क में है।

loading...
शेयर करें