भारतीय सीमा में घुसा म्यांमार, 3 किमी अंदर गाड़ा पिलर, कांग्रेस ने किया विरोध

0

नई दिल्ली: पाकिस्तान और चीन के बाद अब भारत के एक और पड़ोसी देश ने भारतीय सीमा में अपना हक जताने की नापाक हरकत की है। इस बार यह हरकत म्यामांर द्वारा की गई, जहां उसने मणिपुर से सटे भारत-म्यांमार सीमा के 3 किमी अंदर एक बॉर्डर पिलर गाड़ दिया है। इस हरकत से स्थानीय लोगों आक्रोश का माहौल है। फिलहाल स्थिति को देखते हुए मणिपुर सरकार ने मामले की जांच के लिए एक कमेटी का गठन किया है।

स्थानीय लोगों ने जताई आपत्ति

दरअसल, हाल ही में म्यांमार सरकार ने भारतीय सीमा के कुछ इलाकों पर बॉर्डर पिलर का निर्माण किया है, जिसमें मणिपुर के तेंगनुपाल जिले में स्थित क्वाथा इलाका शामिल है। इस इलाके में भी म्यामांर ने बॉर्डर पिलर बना लिया है, जिससे स्थानीय लोगों में गुस्सा है, लोगों का आरोप है कि भारतीय सीमा होने के बावजूद सरकार ने म्यांमार को खुश करने के लिए उसे यह निर्माण करने दिया।

कांग्रेस ने भारतीय जमीन म्यांमार को देने का लगाया आरोप

गुरुवार को मणिपुर की दो पार्टियों के नेताओं और पत्रकारों ने विवादित स्थल का दौरा किया। इस दौरान विवादित पिलर की सुरक्षा में असम राइफल्स और पुलिस के जवान तैनात थे। इस मामले में विपझी दल कांग्रेस ने सरकार की आलोचना करते हुए यह आरोप लगाया कि वह भारतीय जमीन को म्यांमांर को दे रही है। वहीं मणिपुर के मुख्यमंत्री एन।बीरेन सिंह ने कांग्रेस के आरोपों को बेबुनियाद करार है। उन्होंने कहा, इलाके का म्यांमार और भारतीय टीमों द्वारा सर्वे किया गया था। जिसके बाद ही दोनों पक्षों में रजामंदी बनी थी।

विवादित पिलर की जांच करवाई जा रही- सीएम

मुख्यमंत्री बीरेन सिंह ने कहा कि वर्तमान में दोनों देशों के बीच सीमा तय नहीं की गई है और तेंगनुपाल जिले में विवादित पिलर मामले की जांच की जा रही है। वहीं शुक्रवार को कांग्रेस के 6 विधायकों की एक टीम ने भी विवादित स्थल का दौरा किया है। कांग्रेस नेताओं ने चेतावनी दी है कि वह म्यांमार द्वारा भारतीय सीमा के अतिक्रमण के खिलाफ जनता के साथ मिलकर आंदोलन करेंगे।

loading...
शेयर करें