IPL
IPL

Suez में हुआ चक्का जाम , क्या इससे बढ़ेंगे पेट्रोल के दाम

कायरो : हाल में मिस्र के Suez Canal में एक कार्गो जहाज फँस गया था। जिससे दोनों तरफ ट्रैफिक जाम हो गया था। इस खबर के बाद क्रूड की कीमत में उछाल भी देखा गया। Suez Canal में इस कार्गो जहाज के फंसने से ग्लोबल ट्रेड पर खासा असर पड़ने के भी आसार हैं।

Suez Canal में अटका EverGiven दुनिया के सबसे बड़े जहाजों में शामिल है। इस जहाज की लंबाई करीब 400 मीटर है जो तेज हवाओं के कारण जहाज तिरछा होकर कैनाल में अटक गया था। आपको बताते चलें कि Suez Canal से दुनिया का करीब 10 फीसदी पेट्रोलियम ट्रेड होता है। और इस के फंसने से बाजार  में ऑयल,पेट्रोलियम प्रोडक्ट की डिलवरी में देरी हो रही है। इसी वजह से 24 मार्च को कच्चे तेल की कीमतों में 6 फीसदी का उछाल भी देखने को मिला था ।

जानकारों के मुताबिक इस ट्रैफिक जाम से निपटने के लिए अगर कोई दूसरा रुट पकड़ा भी जाता है तो फिर मिडिल ईस्ट-यूरोप की यात्रा में 15 दिन की और देरी हो जाएगी।

आखिर Suez Canal क्यों है इतना अहम

2019 के आकंड़ो पर नजर डाले तो प्रति दिन इस नहर से करीब 50 जहाज गुजरते हैं। बता दें कि 1869 में इस रास्ते से एक दिन में सिर्फ 3 जहाज  गुजरते थे। कुछ अनुमानों के मुताबिक दुनिया का 12 फीसदी ट्रेड इस रास्ते से होता है जबकि 30 फीसदी कंटेनर शिप इसी रास्ते से गुजरते है। स्वेज नहर एक मानव निर्मित वाटर वे है।

भारत पर क्या होगा असर

भारत स्वेज नहर के रास्ते होने वाले तेल आयात का सबसे बड़े ग्राहकों में से एक है। भारत में इस रास्ते से प्रति दिन करीब 5 लाख बैरल तेल का आयात होता है।

यह भी पढ़ेंफ्रांस की वर्ल्ड चैम्प Pomagalski का हुआ निधन

Related Articles

Back to top button