पेरू में सियासी घमासान के बीच अंतरिम राष्ट्रपति ने दिया इस्तीफा

पेरू के अंतरिम राष्ट्रपति मैनुअल मेरिनो ने रविवार को अपने पद से इस्तीफा दे दिया। दो दशक से देश में बड़े संवैधानिक संकट का सामना कर रहा है।

पेरू: पेरू के अंतरिम राष्ट्रपति मैनुअल मेरिनो ने रविवार को अपने पद से इस्तीफा दे दिया। दो दशक से देश में बड़े संवैधानिक संकट का सामना कर रहा है। संसद द्वारा सबसे बड़े नेता को सत्ता से बेदखल किए जाने के बाद विरोध प्रदर्शन शुरू हो गया था। मैनुअल मेरिनो ने इस्तीफा देने के बाद मंगलवार को कहा कि उनका अंतरिम राष्ट्रपति पद की शपथ लेना, कानून के दायरे में था। वहीं प्रदर्शनकारियों ने आरोप लगते हुए कहा है कि संसद में सदस्यों ने तख्तापलट की साजिश रची थी।

मैनुअल मेरिनो ने मीडिया के सामने आपने संबोधन में कहा- मैं भी सभी लोगों की तरह देश के लिए सर्वश्रेष्ठ चाहता हूं। जब अशांति फैली जिसमे दो युवा प्रदर्शनकारियों की मौत हो गई तब आधी रात में मेरिनो ने इस्तीफा देने का फैसला लिया। उनके आधे मंत्रिमंडल ने इस्तीफा दे दिया। पेरू के लोगों ने लीमा में झंडे फहराकर इस फैसले का स्वागत किया और नारे लगाए, ‘‘हमने यह कर लिया।’’ लेकिन अब तक यह स्पष्ट नहीं हो पाया है कि अशांति के बीच आगे क्या होने वाला है।

ये भी पढ़े : योगी सरकार के पास पराली का समाधान नही: सभाजीत सिंह

वहीं सत्ता से बेदखल होने वाले पूर्व राष्ट्रपति मार्टिन विजकारा ने सुप्रीम कोर्ट से इस मामले में दखल देने की अपील की है। पेरू में काफी कुछ दांव पर लगा हुआ है। देश कोरोना महामारी का सामना कर रहा है और यह दुनिया भर के उन देशों में शामिल है, जहां इसका प्रकोप सबसे अधिक है। वहीं राजनीतिक विशेषज्ञों का कहना है कि इस संकट ने देश के लोकतंत्र को खतरे में डाल दिया है।

 

Related Articles