International Peace Day 2020: आज दुनिया मना रही है विश्व शांति दिवस

International Peace Day 2020: आज दुनिया मना रही है विश्व शांति दिवस

नई दिल्ली: International Peace Day हर साल 21 सितंबर को विश्व भर में मनाया जाता है। इसके जरिये दुनिया भर के देशों और नागरिकों के बीच शांति के संदेश का प्रचार-प्रसार किया जाता है। शांति दिवस मनाने का खास महत्व है। वैश्विक स्तर पर सभी देशों और नागरिकों के मध्य शांति बहाल रहे इसके लिए निरंतर प्रयास किया जाता है। आज के दिन दुनिया भर में शांति बनी रहे इसके लिए व्यापक स्तर पर प्रचार प्रसार होता है। सफेद कबूतर को शांति का दूत माना जाता है इसलिए आज के दिन सफेद कबूतरों को उड़ाकर शांति का सन्देश दिया जाता है।

ये भी पढ़ें : OPPO Reno 4 SE 5G स्मार्टफोन लॉन्च, जाने स्पेसिफिकेशन्स

शांति बनाए रखने को मनाया जाता है यह दिवस –

विश्व के सभी देशों और उनके नागरिकों के बीच शांति बहाल रहे इसके लिए यूनाइटेड नेशंस ने 1981 में विश्व शांति दिवस मनाने की शुरुवात की थी। यहीं से साल 1982 से विश्व शांति दिवस मनाने की शुरुवात की गई। 1982 से लेकर 2001 तक सितंबर महीने के तीसरे मंगलवार को विश्व शांति दिवस के मनाया जाता रहा था। लेकिन साल 2002 से ये 21 सितंबर को मनाया जाने लगा।

नेहरू जी ने विश्व में शांति बनी रहे इसके लिए 5 मूल मंत्र दिए थे –

देश के पूर्व प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू ने विश्व में शांति बनी रहे इसके लिए 5 मूल मंत्र दिए थे। ये ‘पंचशील के सिद्धांत‘ के तौर पर भी जाने जाते हैं। इनके मुताबिक विश्व में शांति की स्थापना के लिए एक-दूसरे की प्रादेशिक अखंडता बनाए रखने और सम्मान किए जाने की बात कही गई थी।

ये सिद्धांत निम्नलिखित हैं-

  • एक दूसरे की प्रादेशिक अखंडता और सर्वोच्च सत्ता के लिये पारस्परिक सम्मान की भावना।
  • अनाक्रमण की भावना।
  • एक दूसरे के आंतरिक मामलों में हस्तक्षेप न करना।
  • समानता एवं पारस्परिक लाभ।
  • शांतिपूर्ण सह-अस्तित्व की भावना का विकास।

ये भी पढ़ें :कृषि विधेयक: कांग्रेस की मांग एमएसपी देने का कानून में उल्लेख करे मोदी सरकार

आज के दिन बजाई जाती है खास घंटी –

International Peace Day यानी विश्व शांति दिवस की शुरुआत यूनाइटेड नेशंस ने न्यूयॉर्क से यूनाइटेड नेशंस ‘पीस’ (शांति) की घंटी बजाकर की जाती है। इस घंटी के एक तरफ लिखा हुआ है कि विश्व में शांति सदैव बनी रहे। यह घंटी अफ्रीका को छोड़कर सभी महाद्वीपों के बच्चों के दान किए गए सिक्कों से बनाई गई है। खास बात यह है कि इसे जापान के यूनाइटेड नेशनल एसोसिएशन ने तोहफे में दिया था।

Related Articles

Back to top button