IPL
IPL

International Women’s Day : जानें क्यों है आधी आबादी के लिए यह दिन खास, क्या है इसका इतिहास

यूनाइटेड नेशन ने 8 मार्च, 1975 को International Women's Day के रूप में मानाने का फैसला किया। जिसके बाद से हर साल 8 मार्च को यह दिन मनाया जाता है।

नई दिल्ली : वैसे तो हर दिन को महिला दिवस के रूप में मनाया जाना चाहिए लेकिन समाज के प्रति महिलाओं के असीम योगदान को महज़ इस एक दिन में सीमित कर दिया गया है। जिस तरह का असीम योगदान महिलाओं ने इस देश और दुनिया को बनाने के लिए दिया है ऐसा शायद ही कोई कर सके। यूनाइटेड नेशन ने 8 मार्च, 1975 को International Women’s Day के रूप में मानाने का फैसला किया। जिसके बाद से हर साल 8 मार्च को International Women’s Day के रूप में मनाया जाता है। इस साल महिला दिवस 2021 की थीम ‘चूज टू चैलेंज’ रखी गई है। ट्विटर पर हैश टैग #ChooseToChallenge #Women’sDay2021 ट्रेंड कर रहा है।

क्या है अंतराष्ट्रीय महिला दिवस ?

International Women’s Day सामाजिक, आर्थिक, सांस्कृतिक और राजनीतिक क्षेत्रों में महिलाओं की उपलब्धियों का जश्न मनाने के लिए समर्पित है। यह समाज एक पुरुष प्रधान समाज है। यहाँ महिलाओं को काफी हद तक वो हक़ नहीं मिलते हैं जोकि एक पुरुष को दिए गए हैं। महिलाएं आज भी अपने उस हक़ के लिए संघर्ष कर रही हैं। इस समाज में महिलाओं का भी बराबरी का हक़ है इस बात को समझना बहुत ज़रूरी है।

कुछ ऐसे देश हैं जहां महिलाओं के साथ समान व्यवहार नहीं किया जाता है। इसलिए, इन देशों में महिलाओं की मुक्ति के लिए विरोध प्रदर्शन किए जाते हैं। कई लोगों के लिए, महिलाओं की भूमिका महज़ घरेलू कामों तक ही सीमित है। हालांकि, इसे बदलने की बहुत सख्त जरूरत है। ऐसा इसलिए क्योंकि महिलाओं को पुरुषों की ही तरह हर क्षेत्र में समान स्वतंत्रता और अवसर का हक़ है। कई लोगों का यह भी मानना है कि महिलाओं से संबंधित मुद्दे कोई बड़ी बात नहीं हैं।

दुनिया लिंग संतुलन हासिल करने की ओर बढ़ ज़रूर रही है लेकिन अभी इस परिवर्तन का असर दुनिया भर में देखने को नहीं मिलता है। हालांकि इसे बदलने की आवश्यकता है क्योंकि हम सभी मनुष्य हैं, और हम सभी को समान अधिकार और अवसर मिलने चाहिए। बेशक, अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस का वैश्विक उत्सव इस बात का प्रतिबिंब है कि महिलाएं हर क्षेत्र में पुरुषों के समान हैं लेकिन इस अभी इस परिवर्तन को और हवा मिलनी बाकी है। अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस नारी शक्ति को बढ़ावा देने और उसके अस्तित्व के महत्व को समझने के लिए केंद्रित एक बढ़ता आंदोलन है।

क्यों मनाया जाता है अंतराष्ट्रीय महिला दिवस ?

महिलाओं की उपलब्धियों का सम्मान करने के लिए International Women’s Dayमनाया जाता है। महिला दिवस के मौके पर हर क्षेत्र की महिलाओं को उनके काम के लिए सम्मनित किया जाता है। अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस पर, हर कोई अपने जीवन में महिलाओं की सराहना करता है। हर कोई अपने जीवन में महिलाओं के मूल्य और महत्व को स्वीकार करता है, और समाज में उनके जबरदस्त योगदान के लिए उनका शुक्र अदा करता है। महिला दिवस पर लोग अपनी दादी, नानी, माँ, बहन और बेटियों को उपहार भी देते हैं। अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस एक ऐसा दिन है जब हर कोई अपने जीवन में महिलाओं के मूल्य और महत्व को स्वीकार करता है। अधिकांश देशों में, इस दिन को राष्ट्रीय अवकाश के रूप में मनाया जाता है।

अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस का इतिहास

अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस का इतिहास 108 साल पुराना है। इसकी पहली झलक साल 1909 में देखने को मिली थी। जब सोशलिस्ट पार्टी ऑफ अमेरिका ने 15,000 महिलाओं के कड़े संघर्ष को मनाया था। जिन्होंने लंबे समय तक काम करने, कम वेतन और न्यूयॉर्क शहर में मतदान के अधिकारों की कमी का विरोध किया था। रूस ने 8 मार्च को इस दिन को मनाने की प्रवृत्ति निर्धारित की थी। जिसके बाद अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस 1913 में रूस में एक आधिकारिक अवकाश बन गया। फिर भी महिलाओं को WWI के कारण कठिनाइयों का अनुभव हुआ। जब पुरुष युद्ध पर थे, तब महिलाओं ने भोजन की कमी और एक सरकार से निपटा, जो उनकी बात नहीं मानती थी। 8 मार्च, 1917 को दसियों हज़ार रूसी महिलाओं ने बदलाव की माँग करते हुए सड़कों पर उतर आईं थीं।

यह भी पढ़ें :

अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस 2021 की थीम

1975 में, संयुक्त राष्ट्र ने आधिकारिक तौर पर अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस को मान्यता दी, और 1996 में, हर साल के लिए वार्षिक थीम को अपनाना शुरू किया। पहला विषय था “अतीत का जश्न, भविष्य के लिए योजना।” 2021 की थीम #ChooseToChallenge रखी गई है। #ChooseToChallenge सुबह से ट्विटर पर लगातार ट्रेंड कर रहा है।

Related Articles

Back to top button