रणजीत बच्चन हत्या में मिले सुराग के आधार पर पत्नी और दोस्त से की पूछताछ

रणजीत हत्या कांड में पुलिस करेगी जल्द खुलाशा

लखनऊ: विश्व हिंदू महासभा के अध्यक्ष रणजीत बच्चन (42) की रविवार सुबह राजधानी में गोली मारकर हत्या कर दी गई| यह हत्या लखनऊ में स्थित परिवर्तन चौक स्थित ग्लोब पार्क के पास दो बदमाशों ने गोली मार दी थी। इस हमले में उनके करीबी दोस्त आदित्य भी घायल हुए थे। आदित्य के बाएं हाथ पर गोली लगी| जिससे आदित्य का हाथ फ्रेक्चर हो गया जिसे दुरुस्त करने के लिए सोमवार दोपहर उनका ऑपरेशन किया गया।

रणजीत की हत्या में पुलिस ने घायल आदित्य की तहरीर पर मुकदमा दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। पुलिस ने जांच को आगे बढ़ाते हुए पत्नी और दोस्त के अलावा कई अन्य लोगों से पूछताछ की है। जिसमें पुलिस के सामने कई तथ्य आए हैं। पुलिस को मिले तथो के आधार पर ही पुलिस ने रणजीत के फ़ोन को चेअक किया|

https://puridunia.com/truck-drivers-doing-business-of-transporting-terrorists-from-one-lakh-to-another/439253/

पुलिस ने मोबाइल के आधार पर 80 नम्बरों की एक सूची तैयार की है| इन नम्बरों पर सबसे ज्यादा बात हुई है| इन नंबरों की कॉल डिटेल खंगाली जा रही है। इनमें कुछ ऐसे नंबर भी मिले हैं। जिन पर लगातार बात होती थी। कुछ ऐसे मिले हैं जिनसे कुछ दिन पहले से कॉल आनी शुरू हुई। उन पर काफी लंबी बातचीत होती थी।

हजरतगंज एसीपी अभय कुमार मिश्रा के मुताबिक हत्याकांड के खुलासे के लिए पुलिस हर पहलू पर काम कर रही है। सोमवार दोपहर में पुलिस टीम ने पत्नी कालिंदी बच्चन शर्मा, दोस्त आदित्य कुमार श्रीवास्तव, अभिषेक पटेल व ज्योति पटेल से पूछताछ की। वहीं रणजीत के भाई राजेश श्रीवास्तव, चचेरे मामा रमेश श्रीवास्तव से अलग-अलग पूछताछ की गई। इस दौरान कई तथ्य सामने आए। इसके साथ ही पुलिस का दावा है कि जल्द ही हत्याकांड का खुलासा हो जाएगा।

रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने सोमवार को पुलिस कमिश्नर से फोन पर हत्याकांड की जानकारी ली। भाजपा महानगर महामंत्री पुष्कर शुक्ला ने बताया कि रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने पुलिस कमिश्नर के साथ ही जिलाधिकारी से फोन पर पूरी जानकारी ली। इसके साथ ही हत्या की गुत्थी को जल्द से जल्द सुलझाने को कहा है| रणजीत बच्चन के बड़े भाई राजेश श्रीवास्तव गोरखपुर में रहते हैं। रविवार को हत्या की सूचना पर वह देर शाम को लखनऊ पहुंचे। पुलिस की पूछताछ में राजेश ने बताया कि रणजीत काफी आजाद ख्याल का था।

Related Articles