दिल्ली में चालान अब आयेगा ई-मेल पर मोबाइल से जमा कर सकेंगे चालान

नई दिल्ली: राजधानी में यातायात नियमों का उल्लंघन करने वाले वाहन चालकों पर अब तीसरी आंख की नजर होगी और तीसरी आंख यानी सीसीटीवी सीधे कोर्ट से जुड़ी होगी। इसके बाद चालान सीधे नियम तोड़ने वाले के मोबाइल या ई मेल पर आएगा। इसका भुगतान डेबिट या क्रेडिट कार्ड से किया जा सकेगा। यह कार्यप्रणाली वर्चुअल कोर्ट की है। राजधानी के पहले वर्चुअल कोर्ट का शुक्रवार को तीस हजारी अदालत में शुरू हो गई और इसका उद्घाटन सुप्रीम कोर्ट के सेवानिवृत्त जज मदन बी लोकुर ने किया। 

जम्मू कश्मीर के सोपियां में आतंकियों ने किया हमला, दो आतंकी ढेर

राजधानी की पहली वर्चुअल कोर्ट को प्रभारी महानगर दंडाधिकारी रुचि अग्रवाल असरानी को बनाया गया है। इस मौके पर हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश डीएन पटेल और पुलिस कमिश्नर अमूल्य पटनायक भी मौजूद रहे। इनके अलावा जस्टिस राजीव शकधर, जस्टिस संजीव सचदेवा, जस्टिस नवीन चावला सहित जिला अदालतों के कई जज उपस्थित थे।

वर्चुअल कोर्ट को राजधानी की सड़कों पर लगने वाले सीसीटीवी कैमरों से जोड़ी जाएगी। यह सीसीटीवी फुटेज कोर्ट के पास आएगी और चालक के मोबाइल व ई मेल पर चालान भेजा जाएगा। कोर्ट की वेबसाइट वीकोर्ट्स डॉट गवर्नमेंट डॉट इन पर भी जाकर फोटो सहित चालान देख सकेंगे। इस चालान में वह फोटो जारी होगी जिसने उस समय नियम तोड़ा होगा। इस शख्स को घर बैठे ऑनलाइन चालान भुगतान की सुविधा भी इस कोर्ट के माध्यम से मिलेगी। इस कोर्ट में चालान जज के डैश बोर्ड पर दिखाई देखा, जिसके आधार पर जज जुर्माना और सजा निर्धारित कर सकेंगे।

Related Articles