ईरान का दावा- US सैन्य ठिकानों पर हवाई हमले में 80 अमेरिकी सैनिकों की मौत

इराक में अमेरिकी सैन्य ठिकानों पर हुए हमले में 80 सैनिकों की मौत हुई है. यह दावा ईरानी मीडिया ने किया है. ईरानी सैन्य कमांडर कासिम सुलेमानी की हत्या के बाद मंगलवार देर रात ईरान ने इराक स्थित अमेरिकी सैन्य ठिकानों पर दर्जनभर बैलिस्टिक मिसाइलों से हमला किया. फिलहाल पेंटागन नुकसान का आकलन कर रहा है. इस बीच ईरानी मीडिया ने दावा किया है कि ईरानी मिसाइल हमले में 80 अमेरिकी सैनिक मारे गए हैं.

अमेरिका ने की पुष्टि

समाचार एजेंसी इस्ना के मुताबिक, आज सुबह, (ईरानी रिवोल्यूशनरी गार्ड) के साहसी लड़ाकों ने ‘ओह जाहरा’ कोड के साथ आतंकवादी अड्डे और आक्रामक अमेरिकी फोर्सेज ‘एन अल असद’ पर मिसाइलें दाग कर ऑपरेशन शहीद सुलेमानी को सफलतापूर्वक अंजाम दिया.” एबीसी न्यूज ने बताया कि एक अमेरिकी अधिकारी ने पुष्टि की है कि इराक में कई अमेरिकी सैन्य अड्डों पर ईरान के अंदर से ‘बैलिस्टिक मिसाइलों’ को दागा गया, जिसमें उत्तरी इराक में एरबिल और पश्चिमी इराक में अल असद एयर बेस शामिल हैं.

सहयोगी देशों पर भी खतरा

रिपोर्ट के मुताबिक, ईरान के रिवॉल्युशनरी गार्ड्स ने अमेरिकी एयरबेस पर हमले को ‘शहीद सुलेमानी’ ऑपरेशन का नाम दिया और ताबड़तोड़ कई मिसाइलें दागीं. इस घटना के बाद ईरानी के एक एटमी प्लांट पर सुरक्षा बढ़ा दी गई है क्योंकि उस पर अमेरिकी हमले की आशंका मंडराने लगी है.

समाचार एजेंसी इस्ना से एक ईरानी अधिकारी ने कहा कि उन देशों पर भी खतरे के बादल मंडरा रहे हैं जहां ईरान के आसपास अमेरिकी सैन्य ठिकाने बने हैं. ईरान पहले भी अमेरिका सहित उसके सहयोगी देशों को कड़े अंजाम भुगतने की चेतावनी दे चुका है. इसके बाद कनाडा ने इराक से अपने सैनिकों को कुवैत भेजने पर विचार किया है.

बड़ा विमान हादसा

अमेरिका और ईरान के बीच जारी तनातनी के बीच ईरान की राजधानी तेहरान स्थित इमाम खुमैनी अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे के पास एक यात्री विमान क्रैश हो गया है. यह विमान यूक्रेन का था और इसमें सवार सभी 170 यात्री मारे गए. ईरान के रेड क्रिसेंट की ओर से कहा गया है कि तेहरान से उड़ान भरने के बाद बुधवार को दुर्घटनाग्रस्त हुए एक यूक्रेनी यात्री विमान में सवार सभी 170 लोग मारे गए हैं.

Related Articles