सुरक्षा परिषद के नाम Iran का खुला ख़त, Israel पर लगाओ लगाम नहीं तो गंभीर होंगे परिणाम

ईरान: संयुक्त राष्ट्र संघ में इस्लामी गणतंत्र ईरान की उप राजदूत ज़हरा इरशादी ने सुरक्षा परिषद के नाम लिखे पत्र में अवैध ज़ायोनी शासन की ओर से ईरान (Iran) के शांतिपूर्ण परमाणु कार्यक्रम के लिए उत्पन्न होने वाले ख़तरों पर आपत्ति जताई और चेतावनी दी कि इस्राईल (Israel) अगर ग़लत अनुमानों का शिकार होकर ईरान के संबंध में कुछ ग़लत करने की सोचता भी है तो उसे उसके गंभीर परिणाम भुगतने पड़ेंगे।

इंटरव्यू के दौरान दिया था ये बयान 

ज़हरा इरशादी ने ईरान के परमाणु कार्यक्रम के संबंध में हालिया दिनों में अवैध ज़ायोनी शासन के अधिकारियों द्वारा दिए जाने वाले धमकी भरे बयानों का उल्लेख करते हुए कहा कि इस्राईली प्रधानमंत्री ने अपने हालिया इंटरव्यू में दबे शब्दों में यह स्वीकार किया है कि इस्राईल ने ईरान के शांतिपूर्ण परमाणु कार्यक्रम पर ख़ुफ़िया तौर पर हमले किए हैं और साथ ही दुस्साहसपूर्ण तरीक़े से यह भी एलान किया है कि इस तरह के हमले भविष्य में भी जारी रहेंगे।

संयुक्त राष्ट्र संघ में ईरान की उप राजदूत ने कहा कि इस्राईल (Israel) ने ईरान (Iran) के एक संवेदनशील परमाणु केंद्र को निशाना बनाया था कि जहां रेडियो एक्टिव पदार्थ के प्रसार का ख़तरा था और उसका यह आपराधिक कृत्य परमाणु आतंकवाद का अपराधी होने के साथ-साथ अंतर्राष्ट्रीय मानदंडों का एक बड़े उल्लंघन का दोषी है।

उन्होंने अंतर्राष्ट्रीय समुदाय से विश्व की शांति और स्थिरता के लिए ज़ायोनी शासन की ओर से मौजूद गंभीर ख़तरों को कड़ाई से लेने का आह्वान किया। ज़हरा इरशादी ने इसी तरह कहा कि संयुक्त राष्ट्र संघ के सदस्य देश के ख़िलाफ़ इस तरह की धमकियां अंतर्राष्ट्रीय क़ानूनों और संयुक्त राष्ट्र संघ के सिद्धांतों विशेषकर उसके दूसरे खंड का स्पष्ट उल्लंघन है, इसलिए विश्व समुदाय को किसी भी स्थिति में इस सहन नहीं करना चाहिए।

यह भी पढ़े: Joe Biden ने लिया बदला- Afghanistan में ISIS-K आतंकी के खिलाफ एयरस्ट्राइक

(Puridunia हिन्दीअंग्रेज़ी के एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)…

Related Articles