क्या ट्रंप की 11 करोड़ वाली बीस्ट को हराने के लिए पुतिन ने तैयार करवायी 2000 करोड़ वाली सेनात कार?

हेलसिंकी: अमेरिका के राष्ट्रपति कई बार विदेश यात्रा के दौरान अपनी प्राइवेट कार से यात्रा करते नजर आए हैं। लेकिन पहली बार  रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन भी विदेश में किसी विदेशी नेता से मिलने अपनी प्राइवेट कार ‘ऑरस सेनात’ में पहुंचे। पुतिन की इस कार को बनाने में 6 साल लगे। इसकी कीमत अमेरिकी राष्ट्रपति की प्राइवेट कार ‘बीस्ट’ 11 करोड़ से 186 गुना ज्यादा यानी 2048 करोड़ रुपए है।

रुस ने ऑरस सेनात से दिखाई ताकत

दरअसल, ऑरस सेनात लिमोजिन को इस साल की शुरुआत में ही लॉन्च किया गया था। ट्रम्प से मिलने से पहले पुतिन खुद इसमें मात्र एक बार ही बैठे थे। पुतिन का यूं सुपरपावर कार में बैठकर ट्रंप से मिलने जाने उनके शक्ति प्रदर्शन से जोड़कर देखा जा रहा है। गौरतलब है कि 16 जुलाई को अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और व्लादिमीर पुतिन के बीच फिनलैंड की राजधानी हेलसिंकी में पहली शिखर वार्ता हुई।

लैंडमाइन के धमाके का भी सेनात पर नहीं होगा असर

रूस के ऑटोमोबाइल के एक एक्सपर्ट ने सेनात को एक बख्तरबंद गाड़ी करार देते हुए कहा कि “लैंडमाइन धमाकों से भी सेनात को कोई नुकसान नहीं होगा। कार के कम्युनिकेशन सिस्टम को सैटेलाइट से जोड़ा गया है। कार का सुरक्षा तंत्र भी जबरदस्त है। उन्होंने कहा कि यह कार रासायनिक हमले को रोकने में सक्षम है। साथ ही वह पनडुब्बी की तरह पानी के अंदर भी चल सकती है।

ऑटोमैटिक सेना की खासियत

रुसी राष्ट्रपति पुतिन की सेनात कार पूरी तरह ऑटोमेटिक है। इसमें एक जेनरेटर भी लगा हुआ है। लिहाजा कार इलेक्ट्रिक और जेनरेटर दोनों से चल सकती है। 7 मीटर लंबी कार की बॉडी 15 मिलीमीटर की सख्त प्लेट से बनी हुई है, जो किसी भी तरह के धमाके का असर रोकने में सक्षम है।

2012 में शुरू कार का निर्माण 2018 में पूरा हुआ

ऑरस सेनात को बनाने का काम वर्ष 2012 में शुरू हुआ था। फाइनेंशियल एक्सप्रेस की मानें तो सेनात को बॉश और जर्मन फर्म पोर्श ने मिलकर बनाया है। इसको बनाने में मॉस्को के सेंट्रल साइंटिफिक रिसर्च ऑटोमोबाइल एंड इंजन इंस्टीट्यूट ने भी मदद की है।

ट्रम्प की बीस्ट में ये खासियत

अमेरिका के राष्ट्रपति की ऑफिशियल कार लिमोजिन वन या कैडिलाक वन को बीस्ट भी कहा जाता है। इसे दुनिया की सबसे सुरक्षित कार कहा जाता है। 11 करोड़ रुपए की कीमत वाली इस कार में 7 लोग बैठ सकते हैं। खतरा होने पर ये कार एक बंकर में बदल सकती है। कार पर किसी बम, गोली या रासायनिक हमले को रोकने में सक्षम है। ट्रंप की बीस्ट में ऑक्सीजन टैंक, नाइट विजन कैमरे भी लगे हुए हैं। टायर पंक्चर होने या खराब होने की स्थिति में भी कार चल सकती है। कार में आग बुझाने और आंसू गैस का सिस्टम भी लगा हुआ है।

Related Articles