क्या सच में COVID का शिकार हुए हैं तंज़ानिया के बुलडोज़र ?

ज़ांज़ीबार : तंज़ानिया के उपराष्ट्रपति सामिया सुलुहु हसन ने हाल हि में मीडिया में दिए अपने बयान में देश को बताया की 61 साल की उम्र में राष्ट्रपति जॉन मैगुफुली(BULLDOZER )का हार्ट अटैक से निधन हो गया है। लेकिन ये बात पब्लिक के गले नहीं उतर रही। देश में अफवाह है की उनकी मौत COVID से हुई है।

COVID डिनायल की वजह से हुए थे दुनिया में मशहूर

जिस चीज़ ने उन्हें पूरी दुनिआ में मशहूर कर दिया था वो था कोविड का डिनायल। अपने कई पब्लिक बयानों में वो कोविड को एक हव्वा कहते नज़र आये थे। उनका यह मानना था की कोविड था की कोविड अफ्रीका का धन चुराने के लिए फैलाई गई एक विदेशी साजिश का हैं। मैगुफुली के इस नज़रिये ने WHO को भी परेशान कर दिया था। और इसी वजह से सरकार ने पिछले साल मई में ही  कोरोना के नए मामलों और मौतों के काउंट की रिपोर्टिंग भी बंद कर दी थी।

चुनाव में धांधली का भी लग चुका है आरोप

जब उन्हें 2020 में दोबारा चुना गया, तब विपक्ष ने उन पर इलेक्शन में धांधली के आरोपी लगाए थे। इस वजह से विपक्ष ने इन के खिलाफ देश भर में मोर्चा खोल दिया था। इन के सबसे बड़े क्रिटिक थे तंज़ानिया के विपक्षी नेता टुंडू लिस्सू , जिन्हें सितंबर 2017 में राजधानी डोडोमा में अज्ञात बंदूकधारियों द्वारा 16 बार गोली मार दी गई थी। जिन के मर्डर का आरोपी भी मैगुफुली पर लगा था और पुरे देश में जाँच की मांग भी उठी थी जिसे सरकार ने नकार दिया था।

ये भी पढ़ें : तीसरी बार मम्मी बनने वाली हैं लीजा हेडन, सोशल मीडिया पर दिखाया बेबी बंप

 

Related Articles