IPL
IPL

ISIS के चार आतंकी गिरफ्तार, अर्द्धकुंभ हमले की थी साजिश

देहरादून/ हरिद्वार। दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने रुड़की से अखलाक समेत ISIS के चार आतंकियों को गिरफ्तार किया है। बताया जा रहा है कि इन आतंकियों के निशाने पर राजधानी दिल्ली के अलावा हरिद्वार का अर्धकुंभ और कई महत्वपूर्ण संस्थान भी थे। पुलिस ने कथित आतंकी अखलाक के साथ तीन अन्य संदिग्धों को भी गिरफ्तार किया है। दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने रॉ के साथ ज्वाइंट ऑपरेशन के तहत इन्हें गिरफ्तार किया। ISIS आतंकियों ने हरिद्वार में चल रहे अर्द्धकुंभ मेले के दौरान बड़े आतंकी हमले की साजिश बनायी थी।

सूत्रों का कहना है कि इन आतंकियों का पठानकोट हमले से भी कनेक्‍शन था। साथ ही वह हरिद्वार में चल रहे अर्द्धकुंभ में भी बड़े वारदात को अंजाम देने की फिराक में था। दिल्ली की खुफिया एजेंसियों ने हरिद्वार जिले के रुड़की और मंगलौर में छापेमारी कर चार संदिग्ध आतंकियों को उठाया है। दिल्ली की आईबी और स्पेशल सेल की टीम करीब एक सप्ताह से रुड़की और मंगलौर से जुड़े ग्रामीण क्षेत्र के कुछ संदिग्धों पर नजर रख रही थी। ऑपरेशन में उत्तराखंड के खुफिया अधिकारियों को विश्वास में लेकर मंगलवार को छापेमारी की गई। गढ़वाल रेंज के आईजी संजय गुंज्याल भी पूरी कार्रवाई पर नजरें जमाए रहे।

ये भी पढ़ें – ISIS का खतरनाक ‘अलरावी’ मोबाइल एप

ISIS 1

ISIS के चारों आंतकी प्रदेश में कई स्थानों पर गये

सूत्रों का दावा है कि खुफिया तंत्र ने मंगलौर क्षेत्र से ISIS के चार संदिग्ध आतंकियों को हिरासत में लिया है। आईबी की टीम उन्हें अपने साथ दिल्ली ले गई है, जहां उनसे कड़ी पूछताछ की जा रही है। हरियाणा के मेवात में धरे गए आतंकी और पठानकोट में हाल में हुए आतंकी हमले से भी इनके तार जुड़ने की आशंका है। सूत्रों का दावा है कि मंगलौर में छिपे ISIS के यह आतंकी उत्तराखंड के कई हिस्सों का दौरा कर चुके हैं। आईबी टीम एक सप्ताह से इन संदिग्धों पर नजर रख रही थी और मौका मिलते ही ऑपरेशन को अंजाम दिया गया। पकड़े गए एक संदिग्ध का नाम अखलाक है जबकि उसके तीन साथी ओसामा, मोहम्मद अजीज और मोहम्मद महरोज हैं। ओसामा कोतवाली रुड़की क्षेत्र का है जबकि बाकी तीनों मंगलोर कोतवाली क्षेत्र के निवासी हैं। हालांकि, रुड़की के एसपी देहात प्रमेंद्र डोभाल ने किसी भी तरह की कार्रवाई की जानकारी से इंकार किया है।

बुधवार को हो सकता है बड़ा खुलासा

उत्तराखंड के एक खुफिया एजेंसी के वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि फिलहाल ऑपरेशन चल रहा है। और बुधवार को ही मामले पर कोई बड़ा खुलासा किया जा सकता है। चारों संदिग्ध आतंकियों के तार हरिद्वार जिले से जुड़े हुए थे।

पहले भी पकड़े गये हैं आतंकी

रुड़की क्षेत्र में पहले भी आतंकी शरण लेते रहे हैं। कुछ साल पहले ही रुड़की से मेरठ के खुफिया तंत्र ने एक आतंकी को पकड़ा था। जिसके पास से सेना के नक्शे और अन्य सामान बरामद हुए थे। हाल में ही दूसरे संदिग्ध ने भी उत्तराखंड में रेकी करने की बात स्वीकारी थी।

ये भी पढ़ें – ISIS ने आधी कर दी सैलरी, अब कहां मिलेगी जिहादियों को नौकरी

ISIS 4

अर्द्धकुंभ में तो नहीं थी कोई साजिश!

फिलहाल, पकड़े गए संदिग्ध आतंकियों की साजिश का अभी खुलासा नहीं हो सका है। आशंका यह भी है कि इन संदिग्धों की योजना अर्द्धकुंभ में तो किसी घटना को अंजाम देने की नहीं थी। दिल्ली आईबी टीम की छापेमारी के बाद उत्तराखंड पुलिस को हाई अलर्ट कर दिया गया है।

यूपी से गायब पाक नागरिक, अर्द्धकुंभ में अलर्ट

यूपी के शामली जनपद से गायब एक पाक नागरिक के अर्द्घकुंभ में किसी आतंकी घटना को अंजाम देने की आशंका के मद्देनजर सर्तकता और बढ़ा दी गई है। पाकिस्तान से वीजा पर आया पाक नागरिक नावेद 19 मई 2015 से गायब है। इस नागरिक की गतिविधियां संदिग्ध रही हैं। खुफिया तंत्र को आशंका है कि यह आतंकियों के साथ मिलकर बड़ी घटना को अंजाम दे सकता है।

बम विस्फोट की साजिश का अब तक खुलासा नहीं

रुड़की में दो साल पहले भाजपा विधायक संगीत सिंह सोम की सभा के बाहर हुए बम विस्फोट की साजिश का अभी तक खुलासा नहीं हो सका है। इस विस्फोट में एक स्कूली बच्चे की मौत हो गई थी। दिल्ली और उत्तराखंड की खुफिया एजेंसियां माथापच्ची के बाद भी इसका सच सामने नहीं ला सकी थीं।

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button