Israel-Palestine Conflict : इजराइल-हमास के बीच संघर्ष का शिकार हो रहे दोनों देशों के लोग

नई दिल्ली: इजराइल की भारी बमबारी से बचने के लिए फिलिस्तीनी परिवार उत्तरी गाजा में अपना घर-बार छोड़कर पलायन करने पर मजबूर है. 2014 की लड़ाई में यहां रहने वाले दर्जनों लोग मारे गए थे तो इस बार यह लोग भागने की जल्दी में हैं. बच्चों को रमजान के दौरान जो नए कपड़े दिलाए गए थे वहीं उन्हें पहनाकर लोग निकल रहे हैं. एक शख्स ने कहा इजराइल की यह अपराधिक हरकत है और उससे रहम की उम्मीद करना बेमानी है. हमास और इजरायल के बीच जंग के फिर से छिड़ने की आशंका हमेशा बनी रहती है लेकिन इजराइल की सड़कों पर ऐसा नजारा दिखना आम नही हैं.

इजराइल के अंदर ही रहने वालों के बीच सांप्रदायिक हिंसा हो रही है, जो इस समस्या का नया रूप है. इसराइल में यहूदियों के अलावा करीब 20 फ़ीसदी फलस्तीनी अरब भी हैं, युवा लोग हिंसा फैलाने के इरादे से सड़कों पर हैं. यहूदी बनाम अरब, और अरब बनाम यहूदी, पूरे इजराइल में यह जंग छिड़ गई है. इजराइली राष्ट्रपति ने चेतावनी दी है देश में गृह युद्ध जैसे हालात बनना हर कीमत में रोका जाना चाहिए.

वहीँ जंग के मुख्य मोर्चे पर यह फैसलों से भरा दिन साबित हुआ

इस सप्ताह हमास के कई टॉप कमांडर इजराइली हमले में मारे गए हैं, तो क्या इससे लड़ाई मंद पड़ जाएगी? शायद नहीं, इजराइल अब यह तय करेगा गाजा में हमास के खिलाफ बमबारी और हवाई हमलो के अलावा क्या उसे जमीनी हमला भी करना होगा. पिछले 15 सालों से इन दोनों पक्षों की जब-जब लड़ाई रही है तो इजराइल के रणनीति का यही पैटर्न रहा है. इजराइल ने यहां 7000 सैनिकों की तैनाती कर दी है.

यूरोशिलम में फिलिस्तीनी अल अक्सा मस्जिद में नमाज पढ़ने जमा हुए. मक्का और मदीना के बाद यह जगह मुसलमानों की सबसे पाक जगह मानी जाती है.

राजनीति, राष्ट्रवाद और सत्ता के लिए यहाँ होता है मजहब का इस्तेमाल

येरुशेलम में स्थित अल अक्सा मस्जिद में जो बैनर लगे हैं उनमें हमास और उसके कमांडर्स को यूरोशिलम में फलिस्तीनीयो के अधिकारों का एकमात्र रक्षक बताया गया है. यहां ईद भी मनाई गई ईद मतलब जश्न का मौका, मां बाप ने बच्चों के लिए इसे खुशनुमा बनाने की कोशिश की मगर फिलिस्तीनियों के नेता महमूद अब्बास के पास जश्न मनाने की कोई वजह ही नहीं है क्योंकि फीलिस्तिनियों की कमान फिलहाल हमास ने ले ली है. उन्होंने कहा ‘यूरोशीलम में जब तक इजराइल का कब्जा है तब तक वहां शांति सुरक्षा और स्थायित्व नहीं लाया जा सकता’

हो सकता है यह लड़ाई बिन्यामिन नेतनयाहू का राजनीतिक कैरियर बचाले पिछले सप्ताह उनकी कुर्सी जाते जाते बची लेकिन अब भी उनकी समस्या खत्म नहीं हुई है लेकिन अब उनके वफादार सैनिक उन्हें मुबारकबाद दे रहे हैं और उनके विपक्षी चुप है. इजराइली प्रधानमंत्री ने कहा के हमास के खिलाफ लड़ाई लंबे वक्त तक जारी रहेगी लेकिन वह शांति स्थापित करने की कोशिश कर रहे हैं कि उनके लिए इतना काफी नहीं है यह सब खत्म करने के लिए उन्हें बहुत कुछ करना होगा खासतौर से गजा से सटे शहर इस्तेरोट में एक रॉकेट हमले में 5 साल के एक बच्चे की मौत हो गई उसके पड़ोसियों में बहुत गुस्सा है. पूरे इजराइल में और उसके कब्जे वाले आसपास के क्षेत्र में पूरे सप्ताह हिंसा का बोलबाला रहा ये वेस्ट बैंक का शहर ब्रॉन है. युवा फिलिस्तीनी और इजराइली एक दूसरे से भिड़ रहे हैं अपने-अपने नेताओं की न कामयाबी खामियाजा भुगतने को एक और पीढ़ी मजबूर है.

ये भी पढ़ें : साधवी प्रज्ञा ठाकुर बोलीं, ‘मै रोज़ गो मूत्र पीती हूं इसलिए कोरोना नहीं हुआ’!

Related Articles

Back to top button