भारत और जापान के आगे आए बिना 21वीं सदी को एशिया का बताना उचित नही: मोदी

0

नई दिल्ली-  दो दिवसीय जापान यात्रा पर गए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने बताया कि भारत  औंर जापान के साथ के बिना 21वी सदी को एशिया का बताना उचित नही होगा।  उन्होंने आगे बोलते हुए कहा की हमारा सपना समस्त राष्ट्र मे व्यात शांति को बढावा देना है। जापान और भारत के संबंधों को हिंद और प्रशांत महासागर सी गहराई और विस्तार प्राप्त है. ये संबंध दर्शाते हैं, लोकतांत्रिक मूल्यों और कानून के राज के प्रति हम कितने प्रतिबद्द हैं। जापान पूरब और पश्चिम की सभ्यताओं का सर्वश्रेष्ठ संगम है।

 मोदी

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी  और जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे की सोमवार को हुई शिखर वार्ता के बाद भारत और जापान ने एक हाई स्पीड रेल परियोजना और नौसेना सहयोग समेत 6 समझौतों पर हस्ताक्षर किए और टू प्लस टू वार्ता करने पर सहमति जताई।

13वीं शिखर वार्ता के दौरान प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि जापान के प्रधानमंत्री  शिंजो आबे के साथ इस बात पर भी सहमित बनी है कि दोनों देशों के रक्षा मंत्रियों और विदेश मंत्रियों के बीच भी बातचीत होगी. मोदी ने कहा कि इस यात्रा के दौरान द्विपक्षीय करेंन्सी स्वाप पर भी सहमति बनी है।

इससे साफ है कि दोनों देश कैसे एक-दूसरे के करीब आ रहे हैं. हमारे बीच इसकी भी हमतिस है  डिजिटल पार्टनरशिप  से साइबर स्पेस तक हम साथ होंगे. स्वास्थ्य से लेकर सुरक्षा तक हर क्षेत्र को दोनों देश विस्तार देंगे. पीएम ने कहा कि उन्हें जानकारी दी गई है कि सोमवार को जापान के निवेशकों ने भारत में 2.5 बिलियन यूएस डॉलर के नए निवेश की घोषणा की है।

 

मोदी ने कहा कि जापान वही महान देश है जिसने सिखाया है कि मानव जाति के विकास का रास्ता पुरातन और नूतन के बीच टकराव का नहीं, बल्कि उनके सह-अस्तित्व और सृजन का है. पीएम ने जापान के उद्यमी वर्ग का भारत पर विशेष विश्वास करने के लिए आभार भी व्यक्त किया. पीएम ने कहा कि आप सभी को आमंत्रित करता हूं कि भारत में आएं और निवेश को गति दें. पीएम ने कहा कि भारत टेक्नॉलजी के क्षेत्र में तेजी से आगे बढ़ रहा है। जापान के बीच का सहयोग दोनों देशों के लिए बेहद लाभदायक साबित होने जा रहा है. अगर जापान के लोग भारत में व्यापार करने आते हैं तो उन्हें निर्माण की कम लागत और सस्ते लेबर का लाभ मिलेगा।

मोदी ने कहा कि भारत आईटी के क्षेत्र में बड़ी शक्ति है. अगर जापान का हार्डवेयर और भारत का सॉफ्टवेयर मिल जाए तो कमाल हो सकता है. पीएम ने कहा कि पहली यात्रा के दौरान उन्होंने जापान प्लस नाम की संस्था खड़ी करने की बात की थी. यह इन्वेस्ट इंडिया के साथ मिलकर काम करती है. इन्वेस्ट इंडिया को बेहतरीन कार्यों के लिए यूनाइटेड नेशंस ने वैश्विक सम्मान से सम्मानित किया है. पीएम ने यह भी कहा कि भारत ने ईज ऑफ डूईंग बिजनेस को और बढ़ावा देने के लिए देश के राज्यों के बीच रैंकिंग भी शुरू कर दी है जिसके बेहतर परिणाम दिखने लगे हैं।

 

loading...
शेयर करें