इसलिए मनाया जाता है April Fools जानिए इससे जुडी हुई ख़ास बातें

1 अप्रैल को दुनिया भर में अप्रैल फूल डे मनाया जाता है दुनिया भर में इस दिन को मूर्ख दिवस के रूप में जाना जाता है और इस दिन लोग अपने दोस्तों और सगे संबंधियों को मूर्ख बना कर खुश होते हैं.

ऐसे में आज हम आपको इस अप्रैल फूल दिवस पर यह बताने जा रहे हैं कि अप्रैल फूल दिवस की शुरुआत कब और कैसे हुई और इस दिन का क्या महत्व है और किससे से बनाने की शुरुआत हुई.

आपको सबसे पहले बता दे कि अप्रैल फूल डे केवल भारत में ही नहीं बल्कि पूरी दुनिया में बनाया जाता है कुछ देशों में 1 अप्रैल की छुट्टी भी रखी जाती है लेकिन भारत सहित कुछ देशों में अप्रैल फूल के दिन कोई छुट्टी नहीं होती है और यह हर दिन की तरह ही दिन रहता है लेकिन इस दिन लोग एक दूसरे के साथ मजाक करते हैं और इस मजाक के लिए कोई किसी का बुरा नहीं मानता.

आपको बता दें कि मूर्ख दिवस या अप्रैल फूल डे को अलग अलग देशों में अलग-अलग तरीकों से बनाया जाता है कुछ देश जैसे ऑस्ट्रेलिया न्यूजीलैंड दक्षिण अफ्रीका और ब्रिटेन में अप्रैल फूल डे के दिन केवल दोपहर तक मनाया जाता है और इन देशों में अप्रैल फूल डे दोपहर तक मनाए जाने के पीछे की वजह है कि यहां के अखबार केवल सुबह के अंत में मुख्य पेज पर अप्रैल फूल डे से जुड़े विचार रखते हैं.

इसके अलावा दूसरे देशों की बात करें जैसे फ्रांस आयरलैंड की दक्षिण कोरिया जापान रूस नीदरलैंड जर्मनी ब्राजील कनाडा और अमेरिका में जोक्स का सिलसिला पूरे दिन भर तक चलता है और पूरे दिन मूर्ख दिवस के रूप में बनाया जाता है.

माना जाता है कि फ्रेंच कैलेंडर में होने वाला बदलाव भी अप्रैल फूल डे बनाने का कारण रहा है वहीं कुछ लोग ऐसा मानते हैं कि इंग्लैंड के राजा रिचर्ड द्वितीय ने एनी की सगाई के कारण अप्रैल फूल डे के रूप में बनाया जाता है.

Related Articles