इटली को Tunisia के राजनीतिक संकट से माइग्रेंटस के बढ़ने की आशंका

टुनिस : केवल आठ महीनों में, इतालवी बंदरगाहों पर आने वाले प्रवासियों की संख्या अबतक पिछले पूरे साल की तुलना में दोगुनी से अधिक हो चुकी है। यह बढ़ोत्तरी, Tunisia में आये  राजनीतिक संकट के कारण है ,जो इटली में डर पैदा कर रही है कि कि जल्द ही ट्यूनीशियाई लोगों की एक नई लहर शरण लेने इटली आ जाएगी।

Tunisia की हालत है खस्ताहाल

इस कड़ी में आपकी जानकारी के लिए बता दें कि दो हफ्ते पहले, ट्यूनीशिया के राष्ट्रपति कैस सैयद ने सरकार को बेदखल कर दिया और संसद की गतिविधियों पर रोक लगा दी थी। कैस ने अभी तक एक नया प्रधान मंत्री नियुक्त नहीं किया है और न ही देश के भविष्य के लिए एक स्पष्ट रोडमैप तैयार किया है। इस राजनीतिक उथल-पुथल के बावजूद, विशेषज्ञों का कहना है कि अभी यह कहना जल्दबाजी होगी कि इसका माइग्रेशन पर क्या असर पड़ेगा। लैम्पेडुसा में काम करने वाले एक संगठन मेडिटेरेनियन होप के फ्रांसेस्को पियोबिची ने यूरोन्यूज को बताया, “स्पष्ट रूप से हम मौजूदा स्थिति की तुलना 2011 में हुई घटना से नहीं कर सकते।” “यह अरब स्प्रिंग की तरह नहीं है जब देश एक क्रांति की चपेट में आ गया था जिसने हजारों लोगों को माइग्रेट छोड़ने के लिए मजबूर किया था।

यह भी पढ़ें : फेसबुक को पछाड़ Tiktok बना मोस्ट डाउनलोडेड एप्लीकेशन

Related Articles