Maruti को ऑटो सेक्टर का बादशाह बनाने वाले जगदीश खट्टर का हुआ निधन

पुणे : कार मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर की बादशाह Maruti सुजुकी के फॉर्मर मैनेजिंग डायरेक्टर जगदीश खट्टर का सोमवार को कार्डियक अरेस्ट से निधन हो गया। वे 78 साल के थे।

Maruti से जुड़ने से पहले IAS अफसर थे खट्टर

जगदीश खट्टर  साल 1993 से 2007 तक मारुति के साथ जुड़े थे। उनको को 1993 में पहली बार कंपनी के मार्केटिंग डायरेक्टर के रूप में शामिल किया था। साल 1999 में खट्टर को कंपनी का MD अप्पॉइंट किया गया। आपकी जानकारी के लिए बता दें की ऑटोमोबाइल सेक्टर में आने से पहले वह IAS अफसर थे। मारुति सुजुकी के साथ लगभग चौदह साल जुड़े रहने के बाद उन्होंने अपनी खुद की कार्नेशन ऑटो इंडिया कंपनी बनाई थी। यह एक सेल्स एंड सर्विस कंपनी थी।

इस के साथ साथ वह 2003 से 2005 तक सोसायटी ऑफ इंडियन ऑटोमोबाइल मैन्युफैक्चरर्स (SIAM) के प्रेसिडेंट भी रहे थे। मारुति से जुड़ने से पहले खट्टर एक IAS अफसर थे। उन्होंने मिनिस्ट्री ऑफ़ स्टील और यूपी सरकार के कई अहम पदों पर भी काम किया था। वह मारुति से जुड़े तब कंपनी की सालाना इनकम सिर्फ 9 हजार करोड़ थी। अपनी अक्लमंदी से खट्टर इसे 22 हजार करोड़ रुपए की बुलंदिओं तक ले गए। तब इन्होने इसका मुनाफा पांच गुना बढाकर 1730 करोड़ रुपए के करीब पहुंचा दिया।

उन दिनों मारुति को हुंडई, जनरल मोटर्स, फोर्ड, फिएट और होंडा जैसी दिग्गज विदेशी कंपनियों से चुनौती मिली, इन की बदौलत तब भी मारुति पर कोई खास फर्क नहीं पड़ा था । मुश्किल कॉम्पिटिशन के बावजूद वह कार बेचने वाली देश की नंबर एक कंपनी बनी रही।

यह भी पढ़ें : आपदा में अवसर ढूंढ रहे Black marketing! पुलिस ने फर्जी इंजेक्शन बनाने वाले गिरोह को किया गिरफ्तार

Related Articles