जगमोहन 31 को रिटायर, सुप्रीम कोर्ट जाने पर रुख साफ नहीं

0

jagmohan-yadav

लखनऊ। डीजीपी जगमोहन यादव का रिटायरमेंट 31 दिसंबर को है। इसकी आधिकारिक सूचना भी डीजीपी मुख्‍यालय की तरफ से जारी कर दी गई है। हालांकि जगमोहन यादव के सुप्रीम कोर्ट जाने पर अभी अपना रुख साफ नहीं किया है। वह इस बाबत बात करने को तैयार नहीं है।

दरअसल,  डीजीपी जगमोहन यादव ने सरकार के खिलाफ याचिका दाखिल की थी। दो साल के कार्यकाल के लिए हाईकोर्ट में केस किया। हाईकोर्ट की विशेष बेंच ने डीजीपी की याचिका खारिज कर दी। जस्टिस रितुराज अवस्थी ने डीजीपी की याचिका खारिज की।  डीजीपी जगमोहन यादव 31 दिसम्बर को रिटायर हो रहे हैं।बतौर डीजीपी ऐसी याचिका करने वाले जगमोहन यादव पहले अफसर बताए जा रहे हैं।

इस बीच डीजीपी मुख्‍यालय के जनसंपर्क अधिकारी श्रवण कुमार सिंह की तरफ से जारी प्रेसनोट में कहा गया है कि डीजीपी जगमोहन यादव 31 दिसंबर को रिटायर हो रहे हैं। 31 दिसंबर को पुलिस लाइन लखनऊ में विदाई समारोह होगा। इस दौरान रैतिक परेड होगी।

गौरतलब है कि पूर्व डीजीपी प्रकाश सिंह की कमेटी ने कहा था कि डीजीपी का कम से कम दो साल का कार्यकाल हो। सुप्रीम कोर्ट ने 2006 अपने निर्णय में प्रकाश सिंह की सिफारिशों का सामने रखा था लेकिन प्रदेश सरकार ने तब इसे सिर्फ आधी अधूरी बातें मानीं। सुप्रीम कोर्ट ने डीजीपी की नियुक्ति के लिए तीन वरिष्‍ठ आईपीएस अफसरों का पैनल बनाकर उसमें वरिष्‍ठता के आधार पर नियुक्‍त करने को कहा था लेकिन प्रदेश सरकार अपने मुताबिक यूपी में डीजीपी की नियुक्ति करती रही है।

जगमोहन यादव से कई वरिष्‍ठ अफसरों को डीजीपी बनने का मौका नहीं मिल सका। इससे पहले भी यूपी सरकार ने कई डीजीपी की नियुक्ति में वरिष्‍ठता को दरकिनार कर चुकी है। ऐसा कहा जा रहा है कि इस आधार पर जगमोहन यादव को सुप्रीम कोर्ट से राहत मिलना उतना आसान नहीं है।

 

loading...
शेयर करें