जम्मू : महबूबा मुफ़्ती के बिगड़े बोल, कहा ‘सरकार को सूद समेत 370 करना होगा वापस’

महाराजा हरी सिंह ने प्रदेश के लोगों को बचाने के लिए लाया था कानून, केंद्र ने कश्मीरियों की पहचान छीन ली

जम्मू: जम्मू-कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ़्ती ने प्रदेश में धारा 370 को बहाल करने के लिए लड़ाई जारी रखने का जिक्र करते शुक्रवार को हुए कहा कि भारतीय जनता पार्टी प्रदेश को धर्मयुद्ध की लड़ाई बनाना चाहती हैं।  पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी की अध्यक्ष मुफ़्ती ने आज यहां पार्टी कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए कहा, ‘भाजपा जम्मू-कश्मीर को वोटों की खातिर धर्मयुद्ध की लड़ाई बनानी चाहती है।’

मेहबूबा मुफ़्ती नजरबंदी से मुक्त किये जाने के बाद पहली बार पार्टी कार्यालय आईं । इस दौरान राष्ट्रीय बजरंग दल और शिवसेना के कार्यकर्ताओं ने उनका विरोध करते हुए काले झंडे भी दिखाए गए। वह शनिवार को यहां आयोजित होने वाले गुप्कर घोषणा पत्र (पीसीजीडी) बैठक में शामिल भी होंगी जिसकी अध्यक्षता नेशनल कॉन्फ्रेंस पार्टी के अध्यक्ष डॉ.फारूक अब्दुल्ला करेंगे।

डोगरा और कश्मीरियों की पहचान छीन ली

उन्होंने कहा, ‘जम्मू- कश्मीर के लोगों को बचाने के लिए महाराजा हरि सिंह द्वारा अनुच्छेद 370 लाया गया था लेकिन इसको रद्द करके केंद्र सरकार ने डोगरा और कश्मीरियों की पहचान छीन ली है।’

सूद सहित 370 और 35A को वापस करना होगा : महबूबा मुफ़्ती

पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा, ‘जब तक धारा 370 बहाल नहीं की जाती , तब तक हम चुप नहीं बैठेंगे और न ही मौजूदा स्थिति को चुपचाप देखते रहेंगे। जब हमने भाजपा के साथ हाथ मिलाया था तो तब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मुफ्ती मोहम्मद सईद को आश्वासन दिया कि अनुच्छेद 370 को नहीं छुआ जाएगा लेकिन हमें बाद में धोखा मिला।’ महबूबा ने कहा कि भारत के संविधान ने हमें अलग ध्वज दिया है और हम उसे वापस प्राप्त करना चाहते हैं। महबूबा मुफ्ती ने कहा कि डकैतों ने रात को हमारे विशेष राज्य का दर्जा हमसे छीन लिया। उन्होंने कहा कि संसद का गलत इस्तेमाल किया गया, किन्तु मैं उन्हें बताना चाहती हूं कि उन्हें धारा 370 और अनुच्छेद 35A  की बहाली करनी होगी, क्योंकि चोरी का माल पचता नहीं है। उन्हें सूद सहित 370 और 35A को वापस करना होगा।

उन्होंने कहा कि भाजपा जम्मू-कश्मीर को धर्मयुद्ध की लड़ाई बनाना चाहती है और उसने भारत के संविधान का मजाक बनाया है। उन्होंने इस दौरान चीन के साथ तनाव को लेकर भी केंद्र सरकार की आलोचना की और आरोप लगाया कि चीन ने भारत की जमीन हड़प ली है। 

ये भी पढ़ें : आईआईटी शोध: डिस्पोजेबल कप में चाय या कॉफी पीना ‘आँखों’ के लिए घातक

Related Articles