जन्माष्टमी विशेष 2018: दो दिन पड़ रही अष्टमी, जानें उत्तम संयोग कब?

0

श्रीकृष्ण जन्माष्टमी इस बार दो दिन मनाई जा रही है। हालांकि व्रत का दिन यानी रोहिणी नक्षत्र का योग 2 सितंबर को मिल रहा है। इसलिए कई जगहों पर आज ही जन्माष्टमी मनाई जाएगी। लेकिन मथुरा के बरसाने में 3 सितंबर यानी सोमवार को ही जन्माष्टमी मनाई जाएगी। शाम 8:47 बजे अष्टमी तिथि शुरू हो रही है। यह अष्टमी तिथि तीन सितंबर को शाम 5.20 बजे तक रहेगी। इस प्रकार इस बार दो दिन जन्माष्टमी मनाई जा रही है।

श्रीकृष्ण जन्म का उत्तम संयोग आज

श्रीकृष्ण जन्माष्टमी पर दो दिन अष्टमी का अद्भुत संयोग है। इस बार 5245 साल पहले भगवान श्रीकृष्ण जन्म वाले विशेष योग बन रहे हैं। उस वक्त उनकी कुंडली में जो ग्रहदशाएं थीं, उनमें से इस बार पांच हू-ब-हू हैं। दरअसल, भगवान कृष्ण का जन्म रोहणी नक्षत्र में रात 12 बजे हुआ था इस प्रकार से देखा जाए तो रात 12:00 बजे अष्टमी और रोहणी नक्षत्र आज यानी 2 सितंबर को है। माना जा रहा है कि कई वर्षों बाद ऐसा उत्तम संयोग बना है, जब रात 12 बजे अष्टमी तिथि और रोहणी नक्षत्र है। ठीक इसी लग्न और मुहूर्त में भगवान कृष्ण का द्वापर युग में अवतार हुआ था।

दो दिन मनाई जा रही जन्माष्टमी

अष्टमी तिथि दो दिन होने से लोग असमंजस में हैं। कोई आज दो सितंबर को जन्माष्टमी मना रहा है तो कोई तीन सितंबर को। 3 सितंबर को जन्माष्टमी इसलिए मनाई जाएगी क्योंकि सूर्योदय की अष्टमी मानें तो यह तीन सितंबर को होगी। लेकिन इस दिन शाम 5.20 तक ही अष्टमी रहेगी। इसलिए तीन सितंबर को रात 12 बजे कृष्ण जन्म के योग नहीं हैं फिर बहुत से लोग तीन सितंबर को जन्माष्टमी मना रहे हैं। खासकर मथुरा में भी तीन सितंबर को ही कृष्ण जन्माष्टमी मनाई जाएगी।

loading...
शेयर करें