27 जनवरी से मातृत्व सप्ताह, कुपोषित बच्चों को मिलेगा पुष्टाहार

maternalलखनऊ। प्रदेश में गर्भवती महिलाओं की आवश्यक जांच के लिए 27 जनवरी से पूरे राज्य में मातृत्व सप्ताह का आयोजन किया जायेगा। राज्य सरकार ने अतिकुपोषित बच्चों को अतिरिक्त पुष्टाहार देने का निर्णय लिया है। यह योजना अप्रैल 2016 से पूरे प्रदेश में संचालित की जायेगी। इस संबंध मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने अपनी सहमति दे दी है।

यह बात बाल विकास सेवा एवं पुष्टाहार राज्यमंत्री श्री कैलाश चौरसिया ने आज यहाँ योजना भवन के सभागार में विभागीय कार्यों की समीक्षा के दौरान कही। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार महिलाओं एवं शिशुओं के संरक्षण के प्रति कटिबद्ध है। मातृत्व सप्ताह के अन्तर्गत प्रदेश के आंगनबाड़ी केन्द्रों पर गर्भवती महिलाओं की यूरीन, हिमोग्लोबिन तथा रक्तचाप आदि की जांचे की जायेंगी। जांच के दौरान यदि महिलाओं में कोई कमी पायी जाती है तो उन्हें चिकित्सालय भेजा जायेगा।

कोई महिला छूटने न पाए

उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिये कि मातृत्व सप्ताह के दौरान कोई भी गर्भवती महिला जांचों से छूटने न पाये। इस संबंध में अभी से गर्भवती महिलाओं का चिन्हांकन कर लिया जाय। इसमें किसी भी प्रकार की लापरवाही न बरती जाय।

राज्यमंत्री ने कहा कि जब मां स्वस्थ होगी, तभी स्वस्थ बच्चे को जन्म देगी। इससे बहुत हद तक बच्चों में होने वाले कुपोषण को भी रोका जा सकेगा।

MaternalBond14 लाख बच्चे कुपोषित

उन्होंने कहा कि प्रदेश में बच्चों के कुपोषण की समस्या बहुत गम्भीर है। लगभग 14 लाख बच्चों में कुपोषण पाया गया है। प्रदेश सरकार ने अगले वर्ष इनमें 60 प्रतिशत की कमी लाने का लक्ष्य निर्धारित किया है। उन्होंने प्रमुख सचिव को निर्देश दिये कि इस लक्ष्य को हासिल करने का भरसक प्रयास किया जाय।

अतिरिक्त पुष्टाहार वितरण

श्री चौरसिया ने कहा कि प्रदेश सरकार ने अति कुपोषित बच्चों में कुपोषण समाप्त करने के लिए अतिरिक्त पुष्टाहार वितरण का निर्णय लिया है। यह योजना आगामी वित्तीय वर्ष से संचालित होगी। इस संबंध में प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव ने सहमति भी दे दी है। यह योजना सात माह से तीन वर्ष के अतिकुपोषित बच्चों के लिए होगी। इस योजना के माध्यम से आंगनबाड़ी केन्द्रों पर वितरण हो रहे पुष्टाहार के साथ-साथ अतिरिक्त पुष्टाहार देने की व्यवस्था होगी। इसके लिए प्रति बच्चा सात रुपये अधिक धन खर्च किया जायेगा।

MaternalHealth2बैठक के दौरान प्रमुख सचिव कुमार कमलेश ने कहा कि प्रदेश सरकार ने आंगनबाड़ी केन्द्रों पर बटने वाले पुष्टाहार की तिथि निर्धारित करके बहुत ही सराहनीय कार्य किया है। तिथि निर्धारित होने से पात्रों को आसानी से पुष्टाहार प्राप्त होगा और लोगों को अनावश्यक रूप से केन्द्र के चक्कर नही लगाने पड़ेगें। उन्होंने अधिकारियों को निर्देश देते हुए कहा कि लोहिया ग्राम के अन्तर्गत बन रहें आंगनबाड़ी केन्द्रों को तत्काल हस्तगत किया जाय। इसके लिए उन्होंने 10 जनवरी तक समय सीमा निर्धारित की है। इसके बाद कमी मिलने पर संबंधित अधिकारियों को बख्शा नही जायेगा। उन्हों अधिकारियों को निर्देश देते हुए कहा कि आंगनबाड़ी केन्द्रों पर स्वच्छ पेय जल, शौचालय एवं किचेन की व्यवस्था सुनिश्चित की जाय। डाटाबेस के तहत केन्द्रवार पूरी रिपोर्ट भेजी जाय।

महानिदेशक, राज्य पोषण मिशन, कामरान रिज़वी तथा बाल विकास पुष्टाहार विभाग के निदेशक, आनन्द कुमार सिंह ने बैठक के जिला परियोजना अधिकारियों से कहा कि गांव को गोद लेने की योजना को गम्भीरता से लिया जाय। पोषण कमेटी की मीटिंग न कराने वाले अधिकारियों के विरूद्ध कड़ी कार्यवाही होगी। वजन दिवस पर लिए गये बच्चों के रिकार्ड को वेबसाइट पर अपलोड न करने वाले अधिकारियों को कड़ी चेतावनी दी गयी। उन्होंने डाटा बेस फीडिंग में शिथिलिता बरतने वाले गोण्डा, देवरिया, लखनऊ, कुशीनगर, गोरखपुर, पीलीभीत, शामली तथा मैनपुरी के अधिकारियों को कड़ी चेतावनी दी।

स्वास्थ्य विभाग ने जारी किये मासूमों के लिए टीकाकरण कार्ड

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button