जापान सरकार का बड़ा ऐलान, शादी करने पर देगी इतने लाख रुपए

नई दिल्ली: जापान सरकार ने युवाओं को शादी करने लिए एक बेहतरीन ऑफर दिया है। सरकार ने शादी करने वाले जोड़ों को 6 लाख येन(करीब 4.25 लाख) रुपये देने का फैसला किया है। ऐसा सरकार इसलिए कर रही है। क्योंकि लोग जल्द शादी करके बच्चे पैदा करें।

शादी
शादी

घर बसाने के लिए सरकार का ऑफर

जापान में कम होती आबादी को देखते हुए सरकार ने एक बड़ा फैसला लिया है। जापान सरकार अब घर बसाने के इच्छुक जोड़ों को करीब 4 लाख 25 हजार रुपये देगी। जिससे शादी करके जल्द बच्चे पैदा करें और गिरती आबादी दर पर काबू पाया जाए। इसके लिए सरकार अप्रैल से बड़े पैमाने पर इनाम देने का कार्यक्रम शुरू करने जा रही है।

करीब 12.68 करोड़ है जापान की आबादी

रिपोर्ट के अनुसार पिछले साल जापान में सबसे 8 लाख 65 हजार बच्चों का जन्म हुआ। बच्चों के जन्म की तुलना में मौत का आंकड़ा 5 लाख 12 हजार ज्यादा रहा। वहीं सरकार ने उम्मीद लगाई है कि इस साल जन्म दर पिछले साल से ज्यादा रहेगी। जापान की आबादी 12 करोड़ के आस पास है। जनसंख्या के हिसाब से जापान सबसे बुजुर्ग देश है।

बुजुर्गों की आबादी बढ़ी

एक रिपोर्ट में कहा गया है कि अगर जन्म दर ऐसे ही रही तो यहां साल 2040 में बुजुर्गों की आबादी 35 फीसदी हो जाएगी। बताया जा रहा है कि जापान में 100 साल से ज्यादा उम्र के लोगों की संख्या बहुत ज्यादा है। इस अंतर को कम करने के लिए सरकार ने बड़े पैमाने पर यह अभियान शुरु किया है। बता

योजना का लाभ लेने के लिए सराकर की शर्तें

सरकार ने इसका लाभ लेने वाले लोगों के लिए कुछ शर्तें भी रखी है। सरकार की शर्तों के अनुसार शादी करने वाले जोड़ों की उम्र 40 साल से ज्यादा नहीं होनी चाहिए। और शर्त में यह भी बताया गया है कि जोड़ों की कुल कमाई 38 लाख रुपये से कम होनी चाहिए। ऐसे ही जिन जोड़ों की उम्र 35 साल से नीचे होगी और उनकी कमाई 33 लाख रुपये से कम होगी। उन्हें सरकार की तरफ से 2.11 लाख रुपये की मदद की जाएगी।

पैसों की कमी से नहीं कर रहे शादी

नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ पॉपुलेशन एंड सोशल सिक्योरिटी रिसर्च(NIPSSR) के मुताबिक साल 2015 में किए गए सर्वे में पता चला है कि 30 फीसदी अविवाहित लड़कों और 18 फीसदी लड़कियों ने शादी करने के लिए पैसे की वजह बताई है।

ये भी पढ़े: रिया चक्रवर्ती की न्यायिक हिरासत 6 अक्टूबर तक बढ़ी, हाई कोर्ट में सुनवाई कल

Related Articles

Back to top button