जब गाय हिन्‍दू, बकरा मुसलमान हो गया…

jafrey

बंगलुरू। असहिष्‍णुता पर देश भर में छिड़ी बहस पर अभिनेता जावेद जाफरी ने जबरदस्‍त तंज कसा है। उन्‍होंने शायरी के जरिए न सिर्फ हिन्‍दुवादी साेच बल्कि मुसलमानों के नजरिए पर भी सवाल उठाए।

पिछले दिनों बंगलुरू में हुसैन पर आयोजित एक व्याख्यान सभा में अभिनेता जावेद जाफरी ने व्यंग्यात्मक कविता के माध्यम से ये बताने की कोशिश की कि कैसे असहिष्णुता का मुद्दा समाज को दो गुटों में बांट रहा है। जावेद ने कहा कि-

नफरतों का असर देखो, जानवरों का बटवारा हो गया,
गाय हिंदू और बकरा मुसलमान हो गया।
ये पेड़ ये पत्ते ये शाखें भी परेशान हो जाएं,
अगर परिंदे भी मुसलमान हो जाएं।

सूखे मेवे भी ये देखकर परेशान हो गए।
ना जाने कब नारियल हिंदू और खजूर मुसलमान हो गए।।

जिस तरह से धर्म रंगों को भी बांटते जा रहे हैं,
कि हरा मुसलमान और लाल हिंदुओं का रंग है, तो वो दिन भी दूर नहीं।
जब सारी की सारी हरी सब्जियां मुसलमानों की हो जाएंगी।
और हिंदुओं के हिस्से बस गाजर और टमाटर ही आएगा।

अब समझ नहीं आ रहा कि तरबूज किसके हिस्से जाएगा?

यहां देखें वीडियो

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button