झांसी: धूमधाम से मनायी गयी सरदार पटेल और महर्षि वाल्मीकि जयंती

स्थित राजकीय संग्रहालय और उत्तर प्रदेश पुरातत्व विभाग के क्षेत्रीय कार्यालय के संयुक्त तत्वाधान में सरदार पटेल की जयंती को राष्ट्रीय एकता दिवस के रूप में मनाते हुए उनके जीवन पर आधारित फोटो प्रदर्शनी और व्याख्यानमाला का आयोजन किया गया.

झांसी:  उत्तर प्रदेश के झांसी में लौह पुरूष सरदार वल्लभ भाई पटेल और महर्षि वाल्मीकि जयंती शनिवार को भव्यता और हर्षोल्लास के साथ मनायी गयी.

मण्डलायुक्त सुभाष चन्द्र शर्मा ने आयुक्त सभागार में सरदार पटेल के चित्र पर माल्यार्पण करते हुए अधिकारियों व कर्मचारियों को सम्बोधित करते हुए कहा कि हमें छोटे-बड़े का भाव न रखते हुये देश की एकता और सुरक्षा की शपथ लेना होगा, साथ ही समाज के विकास के प्रति भी संवेदनशील होकर कार्य करना होगा.

यहां स्थित राजकीय संग्रहालय और उत्तर प्रदेश पुरातत्व विभाग के क्षेत्रीय कार्यालय के संयुक्त तत्वाधान में सरदार पटेल की जयंती को राष्ट्रीय एकता दिवस के रूप में मनाते हुए उनके जीवन पर आधारित फोटो प्रदर्शनी और व्याख्यानमाला का आयोजन किया गया. प्रदर्शनी में गुजरात में नर्मदा नदी के तट पर स्थित केवडिया घाट पर लौह पुरूष की विशालतम प्रतिमा के विभिन्न स्वरूपों का प्रदर्शन आकर्षण का केंद्र रहा.

व्याख्यानमाला में प्रसिद्ध गांधीवादी चिंतक नरोत्तम स्वामी ने सरदार पटेल के व्यक्तित्व और कृतित्व के कई रोचक प्रसंग प्रस्तुत करते हुए कहा कि नेताओं का सद्चरित्र ही लोगों को उनके दिखाये मार्ग पर चलने के लिए प्रेरित करता है. संघ के विभाग प्रमुख डॉ़ अजय ने लौह पुरूष को महानायक की संज्ञा देते हुए बताया कि किस तरह से देसी रियासतों को एक कर उन्होंने अखंड भारत का निर्माण किया साथ ही देश के लिए उनके द्वारा किये गये त्याग के कुछ अनछुए पहलुओं पर भी प्रकाश डाला. इस दौरान पुरातत्व अधिकारी डॉ एस के दुबे और डॉ़ उमा पराशर ने भी अपने विचार व्यक्त किये.

जिलाधिकारी आन्द्रा वामसी ने कलैक्ट्रेट प्रांगण में लौह पुरुष के चित्र पर पुष्पांजलि अर्पित करते हुए समस्त अधिकारी व कर्मचारियों को राष्ट्रीय एकता दिवस के अवसर पर राष्ट्रीय एकता, अखण्डता और सुरक्षा बनाये रखने की शपथ दिलायी.

जनपद में महर्षि बाल्मीकि जयंती भी धूमधाम से मनायी गयी. इस जयंती के पूर्व संध्या पर मण्डलायुक्त ने 1008 पंचमुखी महादेव मन्दिर स्थित राम मन्दिर में बाल्मीकि रामायण का अखण्ड पाठ विधि विधान से प्रारम्भ कराया, उन्होंने इस अवसर पर महर्षि वाल्मीकि रामायण का पाठ भी किया.

यहां श्री राम मन्दिर, श्री हनुमान मन्दिर व महर्षि बाल्मीकि मन्दिर पर विधि विधान से रामायण पाठ व भजन कीर्तन का आयोजन किया गया. जिलाधिकारी ने नगर निगम प्रांगण में स्थित महर्षि बाल्मीकि मन्दिर में पूजा अर्चना कर कार्यक्रम का शुभारम्भ किया. राम जानकी मन्दिर पावर हाउस जेल चौराहा तथा पंचमुखी हनुमान मन्दिर सिविल लाइन पर भी पूजा अर्चना के साथ भजन- कीर्तन गायन कार्यक्रम किया गया.

इस अवसर पर अपर आयुक्त आरपी मिश्रा, नगर आयुक्त अवनीश कुमार राय, एडीएम बी प्रसाद, एडीएम राम अक्षयवर चौहान, अपर नगर आयुक्त शादब असलम, नोडल अधिकारी अतुल दीक्षित प्रचार-प्रसार सहायक, अभिषेक सिंह सहायक संरक्षक पुरातत्व विभाग सहित अन्य अधिकारी व कर्मचारी उपस्थित रहे.

यह भी पढ़े: रिजिजू ने 200 किमी लंबी वॉकेथॉन को किया रवाना, रेगिस्तान से होकर गुजरेगें ITBP जवान

Related Articles