झांसी: एमएलसी चुनाव में सपा प्रत्याशी ने मारी बाजी, बीजेपी को 4333 मतों से हराया 

उत्तर प्रदेश विधान परिषद (एमएलसी) स्नातक खंड इलाहाबाद-झांसी में समाजवादी पार्टी के उम्मीदवार डॉ़ मानसिंह यादव ने सत्ताधारी दल भारतीय जनता पार्टी के प्रत्याशी यज्ञदत्त शर्मा को लगभग चार हजार से अधिक मतों से करारी शिकस्त दी।

झांसी: उत्तर प्रदेश विधान परिषद (एमएलसी) स्नातक खंड इलाहाबाद-झांसी में समाजवादी पार्टी के उम्मीदवार डॉ़ मानसिंह यादव ने सत्ताधारी दल भारतीय जनता पार्टी के प्रत्याशी यज्ञदत्त शर्मा को लगभग चार हजार से अधिक मतों से करारी शिकस्त दी। बैलेट पेपर से हुए एमएलसी मतदान के लिए दो दिन चली मतगणना के बाद अंतिम परिणामों की लिस्ट प्रशासन की ओर से शुक्रवार देर रात जारी की गयी।

रिटर्निंग ऑफिसर (आरओ) सह मंडलायुक्त सुभाष चंद्र शर्मा ने सपा उम्मीदवार को जीत का प्रमाणपत्र जारी किया। डॉ़ मानसिंह यादव को 23,093 मत मिले जबकि भाजपा उम्मीदवार डॉ़ शर्मा को 18760 मत मिले और इस तरह डॉ़ यादव ने भाजपा उम्मीदवार को 4333 मतों से शिकस्त दी।

विजयी उम्मीदवार के साथ जीत का प्रमाणपत्र लेकर जीत का जश्न मनाते और नारेबाजी करते हुए सपाई मतगणना स्थल से बाहर आये। डॉ यादव ने इस जीत को लोकतंत्र की जीत बताते हुए मतदाताओं का आभार व्यक्त किया। चुनाव के बाद अंतिम परिणाम आने से पहले जबरदस्त वाद विवाद हुए। सुबह मतदान में गड़बड़ियों का आरोप लगाते हुए आपत्ति दर्ज कराने आये भाजपा प्रत्याशी, पदाधिकारी और कार्यकर्ताओं का पुलिस के साथ जबरदस्त विवाद हुआ।

ये भी पढ़ें : डीसीजीआई ने जाइडस कैडिला को कोरोना वैक्सीन के तीसरे चरण के परीक्षण के लिए दी मंजूरी

प्रत्याशी और कुछ अन्य लोगों को मतगणना स्थल में प्रवेश दिये जाने से इंकार करने के बाद भाजपाई पुलिस से भिड़ गये। दोनों पक्षों के बीच विवाद गहराने के बाद जमकर धक्का मुक्की हुई और भाजपा विधायकों सहित सभी कार्यकर्ताओं को पुलिस ने मतगणना स्थल से बाहर खदेड दिया।

ये भी पढ़ें : राज्यपाल ने सभी विश्वविद्यालयों को दिए निर्देश, लंबित परीक्षाएं जल्द करें आयोजित

मतगणना स्थल पर दोनों दलों ने शुरू किया था धरना

जिसके बाद पुर्नमतगणना की मांग करते हुए भाजपाई धरने पर बैठ गये जबकि दूसरी ओर विवाद की जानकारी मिलने के बाद मतगणना स्थल पर सपाईयों ने भी डेरा जमा लिया और भाजपा पर धांधली का आरोप लगाते हुए धरना शुरू कर दिया। प्रशासन के भाजपाईयों की मांग नहीं मानने के बाद वह मतगणना का बहिष्कार करते हुए बाहर निकल गये जबकि सपाइयों को प्रशासन के लोगों ने धरने से उठाया।

Related Articles

Back to top button