Reliance के लिए नया ‘ग्रोथ इंजन’ साबित हो रहा है JIO

मुकेश ने पेट्रोकैमिकल से दूरसंचार क्षेत्र में कदम रखने पर “डेटा इज न्यू ऑयल” कहा था। उस समय संभवतः किसी को यह आभास भी नहीं होगा कि यह महज बयान नहीं है बल्कि रिलायंस के ट्रांस्फॉरमेशन की योजना है।

नई दिल्ली: मुकेश अंबानी की रिलायंस JIO चीन को छोड़कर विश्व के किसी देश की पहली कंपनी है जिसके 40 करोड़ से अधिक मोबाइल ग्राहक हैं। एशिया के सबसे अमीर मुकेश ने पांच सितंबर 2016 को रिलायंस जियो के साथ दूरसंचार क्षेत्र में कदम रखा था और शायद किसी ने भी यह नहीं सोचा होगा कि दो दशकों से अधिक समय से साम्राज्य जमाये बैठी कंपनियों को यह इतने कम समय में पछाड़ देगी।

मुकेश ने पेट्रोकैमिकल से दूरसंचार क्षेत्र में कदम रखने पर “डेटा इज न्यू ऑयल” कहा था। उस समय संभवतः किसी को यह आभास भी नहीं होगा कि यह महज बयान नहीं है बल्कि रिलायंस के ट्रांस्फॉरमेशन की योजना है।

73 लाख उपभोक्ता सितंबर तिमाही में जुड़े

मुकेश के इस बयान पर रिलायंस JIO ने शुक्रवार को चालू वित्त वर्ष की दूसरी तिमाही के नतीजों से मोहर लगा दी कि रिलायंस के लिए डेटा अब न्यू ऑयल की तरह काम कर रहा है। JIO की ग्राहक संख्या 40.56 करोड़ से अधिक हो गई है, जिसमें से करीब 73 लाख उपभोक्ता सितंबर तिमाही में जुड़े। कंपनी का दावा है कि चीन को छोड़ कर दुनिया के किसी भी देश में 40 करोड़ का आंकड़ा पार करने वाली जियो पहली टेलीकॉम कंपनी है।

रिलायंस जियो इन्फोकॉम अब दुधारू गाय

Reliance के परिचालन लाभ में उपभोक्ता आधारित कारोबार की हिस्सेदारी लगातार बढ़ रही है। रिलायंस जियो और रिलायंस रिटेल की एबिटा में हिस्सेदारी करीब 50 फीसदी तक पहुंच गई है। एक वर्ष पूर्व तक यह हिस्सेदारी मात्र एक तिहाई तक थी। संकेत साफ है कि कंपनी अंदरूनी बदलाव के दौर से गुजर रही है और कंपनी का ध्यान अब उपभोक्ता आधारित कारोबार पर है।
रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड के लिए रिलायंस जियो इन्फोकॉम अब दुधारू गाय साबित है।

JIO इन्फोकॉम को सितंबर तिमाही में जबर्दस्त मुनाफा हुआ है। कंपनी को दूसरी तिमाही में 2844 करोड़ रुपए का मुनाफा हुआ। अप्रैल-जून तिमाही के मुकाबले इसमें 13 प्रतिशत की वृद्धि रही है। जियो की परिचालन आय दूसरी तिमाही में 17,481 करोड़ रुपए रही है।

JIO को बड़े प्रौद्योगिकी खिलाड़ी के तौर पर देख रहा बाज़ार

बाजार जियो को बड़े प्रौद्योगिकी खिलाड़ी के तौर पर देख रहा है। रिलायंस ने 5जी की स्वदेशी तकनीक विकसित कर सबको चौंका दिया था। क्वालकॉम के साथ मिलकर रिलायंस जियो ने अमेरिका में इसके सफल परीक्षण को भी अंजाम दे दिया है। कंपनी के मुताबिक भारत में 5जी लॉन्च करने के लिए जियो पूरी तरह तैयार है। इसके अलावा कंपनी आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस, एज कम्प्यूटिंग, इंटरनेट ऑफ थिंग्स, डीप डेटा एनालिसिस और ब्लॉक चेन पर भी शोध और विकास का काम कर रही है।

JIO ने 32.96 प्रतिशत हिस्सेदारी बेचकर 1,52,096 करोड़ रुपए जुटाए

जियो की भविष्य की योजनाओं और उसके विकास की संभावनाओं पर अंतरराष्ट्रीय कोषों और प्रौद्योगिकी कंपनियों ने मोहर लगा दी है। जियो के दरवाजे पर दुनिया की बड़ी कंपनियां निवेश के लिए खड़ी हैं। अब तक रिलायंस जियो ने 32.96 प्रतिशत हिस्सेदारी बेचकर 1,52,096 करोड़ रुपए जुटाए हैं। यह हिस्सेदारी फेसबुक, गूगल, सिल्वर लेक, विस्टा इक्विटी पार्टरनर्स, जनरल अटलांटिक, केकेआर, मुबाडला, एडीआईए, टीपीजी एल कैटरटन, पब्लिक इन्वेस्टमेंट फंड, इंटेल कैपिटल और क्वालकॉम को बेची गई है।

ये भी पढ़ें : युवक ने छत पर खड़ी कर स्कार्पियो को बनाया पानी की टंकी, आनंद महिंद्रा का आया रिएक्शन

Related Articles

Back to top button