केन्द्रीय मंत्री पीयूष गोयल की मौजूदगी में Congress छोड़ भाजपाई हुए जितिन प्रसाद

नई दिल्ली: राहुल गाँधी के करीबी और कांग्रेस सरकार के मंत्री रहे जितिन प्रसाद ने कांग्रेस को उत्तर प्रदेश 2022 के चुनाव से पहले तगड़ा झटका दिया है. वे केन्द्रीय मंत्री पीयूष गोयल की मौजूदगी में Congress छोड़ भाजपाई हो गए हैं. बता दें ये कयास लगाये जा रहे थे कि कांग्रेस के हाईकमान से नाराज़ जितिन प्रसाद कोई बड़ा कदम उठा सकते हैं. जितिन प्रसाद उत्तर प्रदेश के शाहजहांपुर के रहने वाले हैं. उनके पिता स्वर्गीय जितेन्द्र प्रसाद कांग्रेस के दिग्गज नेता थे.

जितिन प्रसाद का राजनितिक सफ़र 2001 में युवा कांग्रेस ( Congress ) में सचिव पद से शुरू हुआ. इसके बाद 2004 के लोकसभा चुनाव में जितिन प्रसाद ने अपनी गृह सीट शाहजहांपुर से जीतकर लोकसभा में एंट्री की. साल 2008 में जितिन प्रसाद भरोसा जताते हुए उन्हें मनमोहन सिंह सरकार में केंद्रीय राज्य इस्पात मंत्री की जिम्मेदारी दी गई. इसके बाद जितिन प्रसाद 2009 के चुनाव में उत्तर प्रदेश की धौरहरा सीट से जीतकर लोकसभा पहुंचे. लेकिन इसके बाद 2014 और 2019 के लोकसभा चुनाव में उन्हें करारी हार का सामना करना पड़ा. कांग्रेस ( Congress ) से जितिन प्रसाद उत्तर प्रदेश की धौरहरा सीट पर तीसरे स्थान पर रहे.

लंबे समय से कांग्रेस से नाराज चल रहे थे जितिन प्रसाद

उत्तर प्रदेश कांग्रेस ( Congress ) में बड़ी जिम्मेदारी न मिलने जितिन प्रसाद लम्बे वख्त से नाराज़ चल रहे थे. वो उन 23 नेताओं में भी शामिल थे जिन्होंने सोनिया गांधी को चिट्ठी लिखी थी. प्रसाद यूपी कांग्रेस में बड़ी जिम्मेदारी चाहते थे लेकिन उन्हें पार्टी में नजरअंदाज किया जा रहा था. राहुल गांधी के बेहद करीबी माने जाने वाले जितिन प्रसाद कुछ वक्त से वह कांग्रेस पार्टी में हाशिये पर थे. हालांकि उन्होंने इसे लेकर कोई खुला विरोध नहीं किया था, लेकिन वो लगातार पार्टी से खुश न रहने का संकेत दे रहे थे.

ये भी पढ़ें : IND-NW Test Series के पहले न्यूज़ीलैंड की टेंशन बढीं, पहले Mitchell अब Williamson भी हुए Injured

Related Articles

Back to top button