J&K में काला दिवस की लगी हॉर्डिंग, जाने आज 22 अक्तूबर को 1947 में क्या हुआ था

 

जम्मू-कश्मीर : जम्मू-कश्मीर में अनुच्छेद-370 हटने के बाद से सूरत बदलती नजर आ रही है। आज 22 अक्तूबर है, आज के दिन श्रीनगर में पिछले 70 सालों के दौरान पहली बार शहरो में 22 अक्तूबर को काला दिवस (ब्लैक डे) लिखे होर्डिंग लगी हुई दिखाई दी है। ये होर्डिंग अलगाववादियों के मुंह पर करारा तमाचा है। इस हॉर्डिंग को लगाने का मकसद है, 73 वर्ष पहले आज के दिन 22 अकतूबर 1947 को हुए कबाइलियों के हमले की घटना के प्रति लोगों जागरूकता फैलाने का उद्देश्य है।

चर्चा में आई हॉर्डिंग

जानकारी के मुताबिक श्रीनगर में ब्लैक डे की होर्डिग मंगलवार की देर रात लगाई गई। अगले दिन बुधवार को जिस किसी ने भी इसे देखा वो हैरान रह गया। सड़को के किनारो पर लगे इस हॉर्डिंग के बाद से चर्चा आग की तरह से फ़ैल गई जिसके बाद कई जगहों से इन पोस्टरों को आनन फानन में हटा गया। सूत्रों का कहना है कि इन होर्डिगों को श्रीनगर नगर निगम से अनुमति के बाद बटवारा, डलगेट, बटमालू, जहांगीर चौक आदि इलाकों में लगाया गया था।

ये भी पढ़े : अमेरिका और रूस एक साल तक नहीं बनाएंगे नए परमाणु हथियार, ये है वजह

क्यों है आज काला दिवस

सड़को के किनारो पर लगे इन हॉर्डिंग में लिखा था, 22 अक्तूबर को पाकिस्तान ने तत्कालीन जम्मू-कश्मीर कि रियासत पर हमला बोला था। पाकिस्तान ने जम्मू कश्मीर के महाराजा के साथ किए गए समझौते का उल्लंघन करते हुए हमला बोला था। इन होर्डिंगों पर लिखा था कि क्या आप लोग जानते हैं कि 22 अक्तूबर 1947 क्या है ? आज का यह दिन जम्मू-कश्मीर के लोगों के लिए काला दिवस (ब्लैक डे) है। होर्डिगों लगाने का नाम अंकित हॉर्डिंग में लिखा था। इसके साथ ही होर्डिंग में कश्मीर के अवाम को कबाइली हमले (22 अक्तूबर) के दिन को ब्लैक-डे के तौर पर स्वीकार करने को कहा गया था।

Related Articles