JNU में देशविरोधी नारेबाजी का वीडियो निकला सही, दिल्ली पुलिस का दावा

0

नई दिल्‍ली। जेएनयू कैंपस में इस साल के नौ फरवरी को एक कार्यक्रम के दौरान के देशविरोधी नारे लगाए जाने को लेकर जांच के बाद दिल्ली पुलिस ने बड़ा खुलासा किया है। पुलिस का दावा है कि JNU में देशविरोधी नारेबाजी लगाने वाले वीडियो सही है। सीबीआई की फोरेंसिक लैब में वीडियो को सही पाए जाने की पुष्टि होने का दावा दिल्ली पुलिस ने किया है।

JNU में देशविरोधी नारेबाजी

JNU में देशविरोधी नारेबाजी के वीडियो फुटेज पर हुई थी कन्हैया की गिरफ्तारी

दरअसल इस वीडियो को सार्वजनिक होने के बाद पूरे देश हंगामा मच गया था। जिसके बाद दिल्ली पुलिस ने वीडियो को आधार बनाकर जेएनयू छात्रसंघ अध्‍यक्ष कन्‍हैया कुमार और दो अन्‍य के खिलाफ देशद्रोह का मुकदमा दर्ज किया गया था। दिल्ली पुलिस के मुताबिक एक हिंदी न्‍यूज चैनल से ये वीडियो फुटेज लेने के बाद इस जांच के लिए दिल्‍ली के सीबीआई फोरेंसिक लैब में भेजा गया था। इसके साथ ही कैमरा, मेमोरी कार्ड, वीडियो क्लिप वाली एक सीडी, तार और दूसरे उपकरण भी जांच के लिए भेजे गए थे। खबरों की मानें तो सीबीआई ने दिल्ली पुलिस की स्‍पेशल सेल को 8 जून को ये रिपोर्ट भेजी, जिसमें वीडियो फुटेज के प्रमाणिक होने की बात कही गई।

हैदराबाद लैब ने 7 में 5 फुटेज को बताया था सही

JNU में देशविरोधी नारेबाजी से जुड़े दिल्‍ली पुलिस ने चार वीडियो फुटेज गुजरात के गांधीनगर स्थित सेंट्रल फोरेंसिक साइंस लैब को जांच के लिए भेजे थे। जिसने मई में दी गई अपनी रिपोर्ट में सभी वीडियो फुटेज को प्रमाणिक होने की बात कही थी। इसके अलावा दिल्ली पुलिस ने इस मामले से जुड़े सात वीडियो फुटेज हैदराबाद के ट्रुथ लैब्‍स में जांच के लिए भेजा गया था, जहां जांच के बाद दो फुटेज के साथ छेड़छाड़ की बात सामने आई थी, जबकि 5 फुटेज प्रमाणिक थे।

loading...
शेयर करें