JNU हिंसा: दिल्ली हाईकोर्ट ने Facebook, Whatsapp और google को जारी किया नोटिस, सबूत सुरक्षित रखने को कहा

0

नई दिल्लीराजधानी दिल्ली में जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी (जेएनयू) में हमले के मामले में आज दिल्ली पुलिस ने फेसबुक, गुगल, व्हाटसएप और एप्पल को नोटिस जारी किया है. दिल्ली हाई कोर्ट ने इस हिंसा से जुड़ी सभी मोबाइल वीडियो फूटेज, सीसीटीवी फूटेज और अन्य सबूतों को सुरक्षित रखने को कहा है. जेएनयू के तीन प्रोफेसर्स ने सीसीटीवी फुटेज, व्हाट्सऐप की चैट और दूसरे सबूतों को सुरक्षित रखने के लिए दिल्ली हाईकोर्ट में याचिका दी थी.

हाई कोर्ट में दायर याचिका में व्हाट्सएप ग्रुप ‘यूनिटी अगेंस्ट लेफ्ट’ और ‘फ्रेंड्स ऑफ आरएसएस’ से संबंधित लिंक के साथ ही केस से जुड़े हुए अन्य सबूतों को भी संरक्षित रखने की मांग की गई है.

आज जेएनयू में कक्षाएं शुरू

वहीं, हिंसा के बाद आज जेएनयू में कक्षाएं शुरू हो गई हैं. 5 जनवरी को हुई हिंसा के बाद जेएनयू में क्लासेस बंद कर दी गई थीं. इससे पहले जेएनयू प्रशासन ने नोटिस जारी कर जानकारी दी थी कि सोमवार यानि आज 7 दिनों बाद, कक्षाएं शुरू होंगी. नोटिस में छात्रों को क्लासेस की जानकारी देते हुए दिल्ली के बाहर रह रहे छात्रों को लौट आने को भी कहा है.

क्राइम ब्रांच ने कई आरोपियों की पहचान का दावा किया

जेएनयू परिसर में 3, 4 और 5 जनवरी को हुई हिंसा के कई वीडियोज़ सामने आते रहे हैं और पुलिस उन वीडियोज़ के आधार पर अब तक कई आरोपियों की पहचान करने का दावा भी कर रही है. 5 जनवरी को हुई हिंसा में जो एक नकाबपोश लड़की की तस्वीर आई थी, अब उसका खुलासा हो गया है. दिल्ली पुलिस के मुताबिक चेक शर्ट पहने लड़की जेएनयू की नहीं बल्कि दिल्ली यूनिवर्सिटी की छात्रा है. ये लड़की दिल्ली यूनिवर्सिटी के दौलत राम कॉलेज की छात्रा है. पुलिस के मुताबिक, वो इस लड़की को नोटिस देकर पूछताछ करेगी.

पुलिस ने नोटिस जारी कर पूछताछ के लिए बुलाया

इससे पहले क्राइम ब्रांच ने वायरल वीडियो से पहचाने गए 9 छात्रों को पुलिस ने नोटिस जारी कर पूछताछ में शामिल होने को कहा है. पुलिस नकाबपोश बाहरी लोगों की पहचान के लिए जेएनयू में जाने वाली डीटीसी बसों की सीसीटीवी फुटेज भी खंगाल रही है. दावा है कि 7 और व्हाट्सप्प ग्रुप के मेंबर की पहचान हुई है.

क्राइम ब्रांच ने सीसीटीवी और वीडियो के आधार पर 9 चेहरे आइडेंटिफाई किए थे, जिसमें लेफ्ट के 7 और एबीवीपी के दो थे. उसके बाद वॉट्सएप्प ग्रुप यूनिटी अगेंस्ट लेफ्ट के  37 मेंबर की पहचान हुई है, जिसमें 10 बाहर के हैं. जिसमें पुलिस ने 7 और मेंबर्स की पहचान की है. कुल 53 से ज्यादा लोगों की पहचान की जा चुकी है. कल क्राइम ब्रांच ने वार्डन, 13 सिक्योरिटी गार्ड और 5 छात्रों से भी पूछताछ की थी.

loading...
शेयर करें