दो मरीजों की मौत के बाद खत्म हुई डॉक्टरों की हड़ताल

doctor

कानपुर। हैलट अस्पताल में बुधवार को तीमारदार व जूनियर डॉक्टरों के बीच हुई मारपीट के मामले को लेकर सारे डॉक्टर हड़ताल पर चले गए। डॉक्टरों के हड़ताल पर जाने के बाद मरीज इलाज के लिए तड़पने लगे। जिसमें महिला समेत एक वृद्ध की मौत हो गयी। मरीजों की मौत की जानकारी जिला प्रशासन को होने पर डीएम ने अस्पताल प्रबंधन को आड़े हाथ लिया। प्रशासन की सख्ती के बाद अस्पताल प्रबंधन ने दबाव बनाकर जूनियर डॉक्टोरों की हड़ताल ख़त्म कराई।

इलाज को लेकर हुई मारपीट
उन्नाव सफीपुर के पास ट्रक व कार की भिड़न्त हो जाने के बाद कार में सवार तीन लोगों की मौत हो गयी, जबकि तीन लोग गंभीर घायल हो गये। जिन्हें परिजन उन्नाव जिला अस्पताल लेकर पहुंचे। बुधवार को इलाज के दौरान तीमारदार व जूनियर डॉक्टयरों के बीच मारपीट हुई। मारपीट के बाद जूनियर डॉक्ट रों ने हड़ताल घोषित कर दिया।

जिलाधिकारी ने जूनियर डॉक्टवरों को समझाया
वार्ड नंबर 16 में भर्ती रानीघाट निवासी वृद्ध सुमित्रा व घाटमपुर मऊनखत गांव निवासी 65 वर्षीय वृद्ध रामगणेश की एनओटी वार्ड में इलाज के दौरान मौत हो गयी। डॉक्टरों की हड़ताल व दो मरीजों की मौत की जानकारी जिलाधिकारी को हुई। डीएम कौशलराज शर्मा ने मामले को लेकर अस्पताल प्रंबधन से बातचीत की। जिसके बाद हैलट के एसआईसी डाक्टर आरसी गुप्ता ने जूनियर डॉक्ट़रों को समझा-बुझाकर हड़ताल खत्म करा दी। डॉक्टएरों के हड़ताल टूटने के बाद तीमारदारों ने राहत की सांस ली।

सिक्योरिटी गार्ड ने थाने में दी तहरीर
हैलट अस्पताल में जूनियर डॉक्टहरों के दबाव में आकर प्राइवेट सिक्योरिटी गार्ड ने डॉक्टुरों के हित व तीमारदारों के खिलाफ स्वरुपनगर थाने में तहरीर दी हैं। इंस्पेक्टर कमल यादव ने बताया कि हैलट अस्पताल के मारपीट के मामले में गार्ड की तरफ से तहरीर मिली हैं तहरीर लेकर जांच की जा रही हैं।

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button